अमरीकी अर्थव्यवस्था पर चेतावनी

बेरनानके
Image caption बेरनानके का मामना है कि फ़ेडरल रिज़र्व को बाज़ार में और पैसा डालना पड़ सकता है

अमरीकी अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करने वाले दो प्रभावशाली लोगों ने चेतावनी दी है कि अमरीका अभी भी गंभीर कठिनाइयों का सामना कर रहा है.

इनमें से एक फ़ेडरल रिज़र्व के प्रमुख बेन बेरनानके हैं और दूसरे वित्तमंत्री तिमोथी गीथनर.

बेरनानके ने कहा है कि बढ़ी हुई बेरोज़गारी और मुद्रास्फ़ीति में कमी अभी भी चुनौती पेश कर रहे है.

उन्होंने कहा कि ऐसे में फ़ेडरल रिज़र्व को वित्तीय संपत्तियाँ ख़रीदने के लिए और पैसा देना पड़ सकता है.

उनका कहना था कि यदि यह काम कर गया तो यह ख़र्च करने के लिए बढ़ावा देगा और कुछ लोगों को कम ब्याज़ दर पर कर्ज़ दिलवाएगा.

उनका कहना था कि यह एक ऐसी नीति है जिसका ज़्यादा प्रयोग नहीं किया गया है इसलिए इसमें ख़तरे भी हैं.

दूसरी ओर 30 सितंबर को ख़त्म हुए वित्तीय वर्ष के बारे में वित्त मंत्रालय ने कहा है कि आर्थिक मंदी से उबरने के क्रम में आय बढ़ी है लेकिन खर्चों में कमी आई है.

उन्होंने कहा है कि लगातार दूसरे साल बजट घाटा दस खरब डॉलर से अधिक है.

गीथनर ने कहा, "आर्थिक मंदी की वजह से राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था को जो नुक़सान पहुँचा है उसे दुरुस्त करने और जो वित्तीय घाटा हुआ है उसे पूरा करने के लिए अभी लंबा रास्ता तय करना है."

कहा जा रहा है कि इस घाटे की वजह से द्विवार्षिक चुनाव में डेमोक्रेट को नुक़सान हो सकता है.

संबंधित समाचार