बीजिंग में कार पर 'वार'

बीजिंग

चीन की राजधानी बीजिंग में कारों की ख़रीदारी सीमित करने वाला नया नियम प्रभावी हो गया है. राजधानी बीजिंग में ट्रैफ़िक की समस्या से निपटने की यह कोशिश है.

बीजिंग प्रशासन को निर्देश है कि वर्ष 2011 में सिर्फ़ दो लाख 40 हज़ार कारें ही ख़रीदी जा सकेंगी. ये संख्या वर्ष 2010 का एक तिहाई है.

इस नियम के प्रभावी होने से पहले कार डीलरों के यहाँ लोगों का जमघट लगा हुआ है, जो नियम लागू होने से पहले जल्द से जल्द नई कार ख़रीदना चाहते हैं.

चीन की राजधानी बीजिंग में ट्रैफ़िक की समस्या काफ़ी गंभीर है, साथ ही यहाँ वायु प्रदूषण भी बहुत है.

अधिकारी अब बीजिंग में संतुलन क़ायम करने की कोशिश कर रहे हैं. एक ओर तो वहाँ मध्यवर्ग की कार रखने की लालसा बढ़ रही है, तो दूसरी ओर शहर में इस कारण कई तरह की समस्याएँ सामने आ रही हैं.

परमिट

बीजिंग ट्रैफ़िक मैनेजमेंट ब्यूरो के उप निदेशक ल्यू शियोमिंग ने कहा, "कम समय में ट्रैफ़िक समस्या से एकाएक निपटना आसान नहीं होगा. लेकिन नए नियम से बिगड़ती यातायात व्यवस्था की रफ़्तार तो कम होगी."

शुक्रवार से एक लाइसेंस प्लेट लॉटरी सिस्टम से कार रजिस्ट्रेशन बाँटा जाएगा. नए नियमों के तहत अगले पाँच साल तक किसी भी सरकारी विभाग में कारों की संख्या नहीं बढ़ाई जाएगी.

वर्ष 2010 में अभी तक बीजिंग की सड़कों पर सात लाख 50 हज़ार नई कारें आईं. अब बीजिंग में रजिस्टर्ड गाड़ियों की संख्या 48 लाख हो गई है.

वर्ष 2009 में कार बिक्री के मामले में चीन ने अमरीका को पीछे छोड़ दिया था. उस साल पूरे चीन में कुल एक करोड़ 36 लाख गाड़ियाँ बिकी थी.

बीजिंग में कार ख़रीदने पर लगाई गई सीमा के तहत नई कारों के लिए 90 प्रतिशत रजिस्ट्रेशन बीजिंग में रहने वाले लोगों को जारी किए जाएँगे.

कार से बीजिंग आने-जाने वाले लोगों को अब परमिट लेना होगा. अधिकारियों ने बीजिंग आने वाली कारों पर शुल्क लगाने का विचार अभी टाल दिया है. उनका कहना है कि अभी इस पर और चर्चा होगी.

समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक़ नए नियम लागू होने के मद्देनज़र पिछले सप्ताह 30 हज़ार नई गाड़ियों की बुकिंग हुई है.

संबंधित समाचार