‘विश्व अर्थव्यवस्था को भारत का सहारा’

Image caption अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के अनुसार 2010-2011 में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 8.8 फ़ीसदी तक होगी.

विश्व आर्थिक विकास के फ़लक पर भारत की भूमिका को महत्वपूर्ण करार देते हुए विश्व बैंक के प्रमुख रॉबर्ट ज़ोएलिक ने कहा है कि भारत का आर्थिक विकास दुनिया को मंदी के दौर से उबरने में मदद कर रहा है.

विश्व अर्थव्यवस्था में भारत की यह भूमिका घरेलू स्तर पर उसकी परिस्थितियों और सफलताओं का नतीजा है.

सोमवार से अपनी चार दिवसीय यात्रा पर भारत पहुंच रहे ज़ोएलिक इस दौरान बुनियादे ढांचे के विकास और भारत के साथ परस्पर सहयोग को मज़बूत बनाने की कोशिशें करेंगे.

अपनी यात्रा से पहले उन्होंने कहा, ''विकासशील अर्थव्यवस्थाएं मुश्किल के इस दौर में आर्थिक विकास की धूरी हैं. भारत की यह भूमिका उसकी आगे की रणनीति, पर्यावरण और विकास के तालमेल और सभी लोगों के लिए समान अवसर उपलब्ध कराने की क्षमता पर इस बात पर निर्भर करेगी.''

ग़ौरतलब है कि भारत अप्रैल 2012 से शुरु हो रही 12वीं पंचवर्षीय योजना के तहत भारी निवेश की रुपरेखा तैयार कर रहा है और इस प्रक्रिया में विश्व बैंक की अहम भूमिका है.

अपनी यात्रा के दौरान ज़ोएलिक प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, वित्त मंत्री प्रणब मुखर् और योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलुवालिया से मिलेंगे.

इस दौरान वो बिहार की यात्रा करेंगे और महिलाओं द्वारा चलाए जा रहे कुछ स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों से मिलेंगे.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के अनुसार 2010-2011 में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 8.8 फ़ीसदी तक होगी.

संबंधित समाचार