उम्मीद से बेहतर है चीन की अर्थव्यवस्था की रफ़्तार

चीन की अर्थव्यवस्था पिछले साल की तुलना में कहीं अधिक तेज़ी से बढ़ रही है.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार चीनी अर्थव्यवस्था 10.3 फ़ीसदी की रफ़्तार से बढ़ रही है.

चीन में रिटेल यानि खुदरा बिक्री में तेज़ी आई है और ये 18 फ़ीसदी की रफ़्तार से बढ़ रही है.

चीन की अर्थव्यवस्था,खासकर रियल्टी क्षेत्र में सरकारी बैंकों ने व्यापक पैमाने पर धनराशि लगाई है.

उल्लेखनीय है कि चीन की अर्थव्यवस्था दुनिया की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था है

शंघाई स्थित बीबीसी संवाददाता का कहना है कि चीन की सरकार ने खाद्यान्न और मकानों की क़ीमतों में वृद्धि पर काबू पाने का वादा किया है.

विश्व बैंक से आगे

इधर चीन ने विकासशील देशों को कर्ज देने के मामले में विश्व बैंक को पीछे छोड़ दिया है.

फ़ाइनेंशियल टाइम्स के अनुसार चीन के विकास बैंक और आयात-निर्यात बैंक ने पिछले दो वर्षों में 110 अरब डॉलर के ऋण विभिन्न सरकारों और निजी कंपनियों को वितरित किए.

ये विश्व बैंक के ऋण वादों से 10 फ़ीसदी ज्यादा है.

विश्व बैंक ने वित्तीय संकट के दौरान वर्ष 2008 से 2010 के बीच सौ अरब डॉलर के ऋण स्वीकृत किए हैं.

विश्लेषकों का कहना है कि ये चीन की आर्थिक ताकत का प्रतीक है. साथ ही ये चीन के विकासशील देशों से बढ़ते संबंधों को भी दर्शाता है.

इसके जरिए चीन पश्चिमी देशों को निर्यात पर भी अपनी निर्भरता कम करता नज़र आ रहा है.

संबंधित समाचार