चीन: 2008 में आधी मदद राशि अफ्रीका को

  • 22 अप्रैल 2011

चीन ने पहली बार दूसरे देशों को दी जाने वाली आर्थिक मदद से जुड़े आँकड़ें जारी किए हैं.इन आँकड़ों से पता चलता है कि पिछले 60 वर्षों में चीन ने कुल 31 अरब डॉलर की धनराशि दूसरे देशों की दी है.

2008 में विदेशों को दी जाने वाली राशि का आधा हिस्सा अफ़्रीका पर खर्च हुआ.

लेकिन कई अहम सवालों के जवाब इस रिपोर्ट में नहीं दिए गए हैं. जैसे ये पैसा कहाँ खर्च होता है और उत्तर कोरिया जैसे देशों को कितनी राशि जाती है.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि रिपोर्ट में तथ्यों की कमी है. इसमें ये नहीं बताया गया है कि किस देश को कितनी मदद मिली और न ही इसमें साल दर साल दी जाने वाली राशि का विवरण है. यानी ये स्पष्ट नहीं है कि चीनी मदद आख़िर कितनी कारगर साबित हुई.

व्हाइट पेपर नाम की इस रिपोर्ट के मुताबिक चीनी बजट में विदेशों को दी जाने वाली मदद का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है. लेकिन अमरीका जैसे देशों के मुकाबले ये राशि अब भी कम है. अमरीका जैसे देश हर साल 25 अरब डॉलर मदद के तौर पर देते हैं.

आधी राशि अफ़्रीका पर ख़र्च

इमेज कॉपीरइट Reuters

अन्य देशों पर खर्च किए जाने वाले पैसे को लेकर चीन में कई सवाल उठते रहे हैं.जैसे हर साल चीन कितना पैसा मदद में दूसरे देशों या विदेशी संस्थाओं को देता है और ये पैसा कहाँ खर्च किया जाता है.

सबसे ज़्यादा सवाल तो इस बात उठे हैं कि चीन उत्तरी कोरिया और बर्मा सरकार को कितनी धनराशि देता है और इसमें से कितना पैसा भ्रष्ट अधिकारियों की भेंट चढ़ जाता है.

रिपोर्ट में एक मोटी रूप रेखा दी गई है कि विश्व में चीन कहाँ-कहाँ काम कर रहा है.बीबीसी संवाददाता के मुताबिक रिपोर्ट में चीन के कामकाज को बड़े सकारात्मक रूप से दिखाने की कोशिश की गई है.

मिसाल के तौर पर लिखा गया है कि कैसे चीनी चिकित्सक दल ग़रीब देशों में काम कर रहे हैं या चीनी तक्नीशियन अस्पताल और स्कूल बनाने में मदद कर रहे हैं.

कुछ दिलचस्प आँकड़ें भी पेश किए गए हैं- जैसे चीन ने ग़रीब देशों का चार अरब डॉलर का कर्ज़ माफ़ कर दिया है और 2008 में विदेशों को दी जाने वाली राशि का 50 फ़ीसदी हिस्सा अफ़्रीका पर खर्च हुआ.

कई कार्यकर्ताओं ने इस रिपोर्ट का स्वागत किया है पर साथ ही कहा है कि पारदर्शिता की दिशा में ये एक छोटा सा क़दम है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार