धड़ाधड़ बिक रहे हैं ओसामा

  • 5 मई 2011
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इन वस्तुओं की कीमत 10 से 40 डॉलर तक है.

इंटरनेट पर ओसामा बिन लादेन की मौत का जश्न मनाते हज़ारों स्मृति चिन्हों की धड़ाधड़ बिक्री हो रही है.

मिसाल के तौर पर एक चाभी की रिंग जिसपर दो बंदूकों के बीच ओसामा का सर है और लिखा हुआ है 'ओसामा बिन किल्ड' (ओसामा मारे गए).

ओसामा की तस्वीर वाले चाय और कॉफ़ी के कपों लिखा हुआ है 'डेड'.

बच्चों के कपड़े बिक रहे हैं जिनपर लिखा हुआ है 'मैंने मारा ओसामा को'.

कैलिफ़ोर्निया स्थित ज़ैज़ल वेबसाइट का कहना है कि उन्होंने रविवार से अब तक इंटरनेट पर लाखों ऐसे सामान बेचे हैं और उनकी कीमत 10 से 40 डॉलर तक है.

कंपनी 10,000 ऐसी वस्तुएं बेच रही है जिनपर अल क़ायदा नेता की मौत से जुड़े संदेश छपे हैं.

वेबसाइट के मार्केटिंग निदेशक माइक कार्न्स का कहना है, “ज़ैज़ल पर पिछले दो दिनों में जो चीज़ सबसे ज़्यादा बिक रही है वो यही वस्तुएं हैं.”

अमरीका में बहुत सारे लोग टोपी, कार के स्टिकर और टी-शर्ट डिज़ाइन करने में जुटे हैं जिनपर ओसामा की छाप है.

ये लोग इन्हें डिज़ाइन करने के बाद सैकड़ों ऑनलाइन स्टोर्स पर डाल देते हैं जो इन्हें छापने के बाद उनकी बिक्री कर रहे हैं.

कई डिज़ाइनरों को हज़ारों डॉलर का मुनाफ़ा हो रहा है.

आलोचना

लेकिन मौत का जश्न मनाने वाले इन स्मृति चिन्हों की आलोचना भी हो रही है.

बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के श्रोता इस तरह की हरकतों से प्रभावित नहीं नज़र आ रहे.

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फ़ेसबुक पर बीबीसी के श्रोताओं ने जो टिप्पणियां दी हैं उनसे ये स्पष्ट है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कुछ लोग इसे घटियापन भी कह रहे हैं.

मैथ्यू क्लैनाहन लिखते हैं: "ये घटियापन है". वहीं जेर्राड एनजी लिखते हैं, "कुछ लोग इसे उद्यम का नाम दें, लेकिन मैं इसे लालच कहूंगा".

ज़ैज़ल के माइक कार्न्स मानते हैं कि कुछ लोगों को ये व्यापार बुरा लग सकता है.

उनका कहना है, "किसी की मौत का जश्न मनाना अजीब सा लगता है भले ही वो दुनिया का सबसे बड़ा शैतान ही क्यों न हो".

लेकिन कुछ लोगों का ये भी कहना है कि दुश्मन की मौत पर जश्न मनाना एक प्राचीन परंपरा है---यहां उसे एक आधुनिक जामा पहनाया गया है.

मानवविज्ञानशास्त्री ग्रांट मैक्रकेन का कहना है, "ये शत्रु की क़ब्र पर नाचने जैसा है".

वो कहते हैं, "ज़्यादातर लोगों के लिए ये एक राष्ट्रभक्ति है, एक प्रतिक्रिया ये दिखाने के लिए कि जिस आदमी ने अमरीका में आतंक मचाया अब मर चुका है".

संबंधित समाचार