फ़ेसबुक फिर क़ानूनी लफड़े में

विंक्लेवौस बंधु इमेज कॉपीरइट g

फेसबुक को लेकर चल रहा क़ानून विवाद ख़त्म नही हो रहा है. विंकलवॉस बंधुओं ने फ़ेसबुक और उसके मालिक मार्क ज़करबर्ग के साथ चल रही लंबी क़ानूनी लड़ाई दोबारा शुरू कर दी है.

दोनों भाईयों टायलर और कैमरन विंकलवॉस ने कंपनी के ख़िलाफ़ नया मुक़दमा दायर किया है.

इसमें ये दावा किया गया है पिछले मुक़दमें के दौरान फ़ेसबुक ने "जानबूझकर या अनजाने में सबूतों को छिपाया है."

इन भाईयों का आरोप है कि ज़करबर्ग ने इस मामले में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज़ो से जुड़ी जानकारी छुपाई है.

दरअसल इन अमरीकी भाईयों का आरोप है कि जब उन्होंने साल 2003 में अपने साइट क्नेक्ट-यू को नियमबद्ध करने का काम ज़करबर्ग को दिया था तो ज़करबर्ग ने उनका आइडिया चुरा लिया और फेसबुक शुरु किया.

विंक्लवॉस बंधु का दावा है कि ज़करबर्ग ने उनके सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट के कोड चुराकर साल 2004 में फ़ेसबुक नाम की वेबसाइट खोल दी थी.

इस झगड़े को खत्म करने के लिए दोनों पार्टियों ने साल 2008 में एक आर्थिक समझौता किया था.

लेकिन साल 2011 में विंकलवॉस बंधुओं ने ज्यादा हर्ज़ाने की मांग को लेकर दोबारा मामला दायर करने की कोशिश की हालांकि अमरीकी अदालत ने कहा कि जो समझौता हुआ है उसे स्वीकार करना होगा.

ज़करबर्ग का हमेशा से दावा रहा है कि फ़ेसबुक को उन्होंने बनाया है.

इस क़ानूनी लड़ाई पर ' द सोशन नेटवर्क 'नाम की फ़िल्म भी बनी थी जिसे ऑस्कर सम्मान के लिए नामांकित किया गया था.

फ़ेसबुक दुनिया की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग साइट है जिसके लगभग 50 करोड़ सदस्य है.

संबंधित समाचार