'इटली की अर्थव्यवस्था मज़बूत'

इमेज कॉपीरइट AFP

इटली के प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी ने संसद के निचले सदन में कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था का आधार मज़बूत है और यूरोप में चल रहे ऋण संकट से उसे जूझना नहीं पड़ेगा.

पिछले कुछ समय से कई यूरोपीय देश कर्ज़ चुकाने के संकट से जूझ रहे हैं. चिंता जताई जा रही थी कि स्पेन और इटली भी इसकी चपेट में आ सकते हैं.

हालांकि इससे पहले दिन में इटली और स्पेन को निजी निवेशकों से कर्ज़ लेने के लिए ब्याज की ऊँची दर देनी पड़ी. मिलान स्टॉक एक्सचेंज में भी भारी गिरावट आई. इटली यूरोज़ोन की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था है. वहाँ छह करोड़ बीस लाख डॉलर की कटौती की योजना घोषित की जानी है.

अब तक इटली ऋण संकट से बचा रहा है हालांकि उसका ऋण बनाम जीडीपी अनुपात 120 फ़ीसदी तक पहुँच चुका है. बर्लुस्कोनी की इस बात के लिए आलोचना होती रही है कि उन्होंने इटली की आर्थिक दिक्कतों को नज़रअंदाज़ किया है.

इटली की अर्थव्यवस्था ग्रीस, पुर्तगाल और आयरिश रिपब्लिक की संयुक्त अर्थव्यवस्थाओं से भी बड़ी है. और अगर इटली को बचाने के लिए आर्थिक पैकेज देना पड़ता है तो ये बहुत मुश्किल काम होगा.

संबंधित समाचार