फिर गिरे अमरीकी और यूरोपीय बाज़ार

  • 11 अगस्त 2011
अमरीकी शेयर बाज़ार इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption शेयर बाज़ार में बैंकों के खस्ता हाल से यूरोप और अमरीका में बाज़ार में गिरावट देखी गई

यूरोपीय और अमरीकी शेयर बाज़ारों में एक बार फिर गिरावट देखी गई है जबकि वहाँ बैंकिंग क्षेत्र के शेयर औंधे मुँह धराशाई हो रहे हैं.

इस बीच अब सभी का ध्यान फ़्रांस की ओर हो रहा है जहाँ सरकार ने इस आशंका को ख़ारिज कर दिया है कि उसकी एएए यानी ट्रिपल ए क्रेडिट रेटिंग अमरीका की ही तरह घट जाएगी.

वहाँ के प्रमुख बैंक सोसियाते जेनेराल के शेयर 20 प्रतिशत तक गिरे मगर उसने किसी तरह के आर्थिक दबाव में होने की बात से इनकार किया है.

फ़्रांसीसी शेयर बाज़ार 5.5 प्रतिशत गिरकर बंद हुआ तो ब्रिटेन के फ़ुटसी शेयर बाज़ार में तीन प्रतिशत की गिरावट देखी गई. उधर अमरीका का प्रमुख डाओ जोन्स 4.6 प्रतिशत तक गिर गया.

वॉल स्ट्रीट के डाओ जोन्स में 520.29 अंकों की गिरावट हुई. इस गिरावट ने एक दिन पहले के 429.92 अंकों के उछाल के असर पर पानी फेर दिया. सोमवार को सूचकाँक में 634.76 अंकों की गिरावट देखी गई थी.

शिकागो स्थिन नॉर्थ स्टार इंवेस्टमेंट मैनेजमेंट कॉर्प के मुख्य निवेश अधिकारी एरिक कुबी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा, "आप इस समय जो देख रहे हैं वो कम समयावधि का दिशाहीन बाज़ार है."

फ़्रांस का दावा

बुधवार को लंदन का फ़ुटसी शेयर बाज़ार भी 158 अंक गिरा जबकि इटली के शेयर बाज़ार में ये गिरावट 6.7 प्रतिशत की रही.

फ़्रांस में सोसिआते जेनेराल के शेयरों में तो गिरावट आई ही ब्रितानी बैंकों के शेयर भी गिरते रहे. बारक्लेज़ के शेयरों में 8.7 प्रतिशत, रॉयल बैंक ऑफ़ स्कॉटलैंड में 7.3 प्रतिशत और एचएसबीसी में 5.3 प्रतिशत की कमी देखी गई.

फ़्रांस सरकार दावा कर रही है कि उसकी ट्रिपल ए की क्रेडिट रेटिंग में गिरावट नहीं आएगी और तीन प्रमुख रेटिंग एजेंसियों- मूडीज़, स्टैंडर्ड ऐंड पूअर्स और फ़िच ने भी इस बात की पुष्टि की है.

मगर रैबोबैंक से जुड़े लिन ग्राहम टेलर का मानना है, "हम बुनियादी रूप से देखते हैं तो लग रहा है कि फ़्रांस की रेटिंग में कटौती होगी."

इटली के क़र्ज़ों को लेकर बाज़ार में पिछले कुछ समय से चिंता रही है. सुबह के व्यापार में तेज़ी आती देखकर इटली की सरकार को कुछ आस भी बँधी थी मगर फिर बाज़ार गिर गया.

इतालवी मीडिया के अनुसार प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी और उनके मंत्रिमंडल की अगले गुरुवार को बैठक होगी जहाँ सरकारी बजट घाटा कम करने के रास्तों पर चर्चा होगी.

संबंधित समाचार