नहीं बिकेगा जर्मनी में सैमसंग का 'टैबलेट'

एपल-सैमसंग इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दोनों कंपनियों के बीच पेटेंट उलंघन को लेकर और भी कई मामले हैं.

टेक्नालॉजी कंपनी एपल ने अपने प्रतिस्पर्धी सैमसंग के ख़िलाफ़ टैबलेट कंप्यूटर बिक्री मामले में जर्मनी में एक केस जीत लिया है जिसके बाद वहां सैमसंग के माल की बिक्री पर रोक लग गई है.

डूस्लडोर्फ़ की एक अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि सैमसंग का गैलेक्सी टैब उसी तकनीक की नक़ल कर रहा है जो एपल ने अपने आईपैड और आईफ़ोन प्रोडक्टस में इस्तेमाल की थीं और जिनपर उसका पेटेंट है.

पेटेंट नियमों के तहत कोई अन्य कंपनी या व्यक्ति किसी दूसरे की तकनीक, फ़ार्मूला आदि का प्रयोग नहीं कर सकता है.

हालांकि सैमसंग के टैबटेल कंप्यूटर पर बिक्री में सिर्फ़ जर्मनी में रोक लगी है लेकिन संवाददाताओं का कहना है कि इससे एपल के लिए रास्ता खुल गया है कि वो दूसरे यूरोपीय देशों में भी इसी तरह के प्रतिबंधों के लिए अर्ज़ी दे.

दोनों कपंनियों के पेटेंट उलंघन के कम से कम बीस और मामले उलझे हुए हैं.

एपल के आईपैड के बाज़ार में आने के बाद कंप्यूटर बाज़ार में भारी बदलाव आया है.

बाज़ार

जर्मनी की अदालत में अपनी अर्ज़ी में एपल ने दावा किया था कि सैमसंग ने उसके टैबलेट मॉडल की बनावट की इस हद तक नक़ल की है कि मामला उसके पेटेंट के उलंघन का बन गया है.

जर्मनी यूरोप का सबसे बड़ा कंप्यूटर बाज़ार है.

इस व्यापार में प्रतिस्पर्धा तो है लेकिन आमदनी भी बहुत बड़ी है. पिछले 18 महीनों के भीतर ही विश्व बाज़ार में तीन करोड़ आईपैड्स बेचे जा चुके हैं.

अदालत के फैसले को लेकर जानकारों की राय अलग-अलग है.

कुछ का कहना है कि इसका कुछ ख़ास असर इसलिए नहीं होगा क्योंकि जर्मनी की बजाए दुकानदार पड़ोसी देशों से आयात कर माल बेच लेंगे.

लेकिन दूसरों का कहना है कि इससे यूरोप के दूसरे बाज़ारों में भी ऐसे प्रतिबंध के लिए रास्ता खुल गया है.

संबंधित समाचार