भारत की निर्यात में ज़बरदस्त इज़ाफ़ा

  • 13 सितंबर 2011
मालगाड़ी पे चढ़ाई  जाती नैनो कार इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption निर्यात की तरह आयात में भी तेजी दर्ज की गई है

भारत का विदेशी निर्यात इस साल अगस्त में पिछले साल इसी समय के मुक़ाबले में 44.2 फ़ीसद बढ़ी हैं, यानी निर्यात में 24.3 अरब अमरीकी डालर की वृद्धि हुई है.

इन आंकड़ों को देखने से पता चलता है कि भारत का निर्यात साल-दर-साल प्रभावशाली रूप से बढ़ रहा है और 134 अरब डॉलर तक पहुँच गई हैं.

लेकिन वाणिज्य मंत्रालय को लगता है कि भविष्य में कठिनाइयाँ आ सकती हैं. मंत्रालय के अनुसार निर्यातकों को प्रोत्साहन देना चाहिए.

व्यापार के मासिक आँकड़े जारी करते हुए केंद्रीय वाणिज्य सचिव राहुल खुल्लर ने कहा कि वित्त वर्ष 2010-11 के मुकाबले इस साल अगस्त के आंकड़े बहुत अच्छे हैं.

बेहतरीन आंकड़े

केंद्रीय वाणिज्य सचिव राहुल खुल्लर ने कहा कि वित्त वर्ष 2011-12 के अप्रैल से लेकर अगस्त तक निर्यात में 54.2 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है.

खुल्लर ने कहा कि अब तक तो हमारी रफ़्तार ठीक है लेकिन भविष्य में हमे कठिनाइयां आ सकती हैं. उन्होंने वित्त मंत्रालय को निर्यातकों को सही समय पर पैकेज देने की सलाह दी.

निर्यात की ही तरह आयात में भी तेज़ी दर्ज की गई है. यह 40 फ़ीसद बढ़ी है यानी 38.4 अरब अमरीकी डालर बढ़कर 189.4 अरब डॉलर तक पहुँच गई है.

अप्रैल से अगस्त तक आयात 40.4 फ़ीसद बढ़ी और इससे व्यापार घाटा 54.9 अरब डालर हो गया है.

सरकार की ओर से जारी इन आंकड़ों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए निर्यातकों के संगठन एफ़आईइओ के रामू एस देवरा ने कहा, "हम तीसरी और चौथी तिमाही में विकास में गिरावट देख सकते हैं. इसके कारण विकसित अर्थव्यवस्थाओं की समस्याओं से जुड़े हैं."

संबंधित समाचार