पाकिस्तानी वाणिज्य मंत्री भारत में

अमीन फ़हीम इमेज कॉपीरइट Pakistani Ministry of Commerce Website
Image caption पाकिस्तानी वाणिज्य मंत्री के साथ व्यापारियों का एक बड़ा दल भारत पहुँचा है

पाकिस्तानी वाणिज्य मंत्री मख़दूम अमीन फ़हीम के नेतृत्त्व में एक पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल व्यापारिक मुद्दों पर चर्चा के लिए मुंबई पहुँचा है.

तीन साल पहले मुंबई में हुए चरमपंथी हमलों के बाद से पाकिस्तान से व्यापारिक रिश्तों पर काफ़ी बुरा असर पड़ा है.

ऐसे में अमीन फ़हीम की मुलाक़ात चरमपंथियों के निशाने पर रहे ताज होटल में ही भारतीय उद्योगपतियों से होगी.

फ़हीम का मुंबई पहुँचने पर ज़ोरदार स्वागत किया गया. वह अपने साथ 80 पाकिस्तानी उद्योगपतियों और व्यापारियों का एक बड़ा दल लाए हैं.

उन्हें मंगलवार को ही दिल्ली जाना है जहाँ उनकी मुलाक़ात भारत के व्यापार और उद्योग मंत्री आनंद शर्मा से होगी. वह उन्हीं के निमंत्रण पर भारत पहुँचे हैं.

इस यात्रा पर मुंबई में व्यापारियों का कहना है कि आर्थिक और व्यापारिक रिश्तों में सुधार आए तो राजनीतिक रिश्ते दोबारा स्थापित करने में मदद मिलेगी.

दोनों देशों के व्यापार मंत्रियों की बैठक में इसी रिश्ते को और मज़बूत करने की कोशिश की जाएगी.

भारत और पाकिस्तान के व्यापारिक रिश्तों में दो बाधाएँ हैं. भारत की पुरानी माँग है कि पाकिस्तान उसे 'मोस्ट फ़ेवर्ड नेशन' का दर्जा दे यानी पाकिस्तान कहे कि व्यापार के लिए भारत उसकी पहली पसंद होगा.

वहीं पाकिस्तान भारत से ये माँग करता रहा है कि वह यूरोपीय संघ की ओर से पाकिस्तान को दी गई व्यापारिक रियायतों पर आपत्ति न जताए.

यूरोपीय संघ ने पिछले साल पाकिस्तान में बाढ़ आने के कारण उसे 75 अलग-अलग वस्तुओं में छूट दी थी मगर भारत ने उसका विरोध किया था जिसके बाद यूरोपीय संघ ने वह रियायत फ़िलहाल रोक रखी है.

इस यात्रा के ज़रिए व्यापारिक प्रतिबंधों को हटाने, व्यापार संबंधी यात्रा को सुलभ करने और एक दूसरे से व्यापारिक संबंध और मज़बूत करने पर बल होगा.

दोनों देशों के बीच सरकारी तौर पर लगभग दो अरब डॉलर का व्यापार होता है मगर इससे भी कहीं अधिक व्यापार दुबई के रास्ते ग़ैर-सरकारी तौर पर होता है.

एक अंदाज़े के अनुसार दोनों देशों के बीच व्यापार 15 अरब डॉलर तक जा सकता है.

संबंधित समाचार