खाद्य पदार्थों की महंगाई और बढ़ी

सब्ज़ी की दुकान इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अगस्त में सब्जियों की क़ीमतों में 11.80 फ़ीसदी की वृद्धि हुई.

सब्ज़ियों, फलों, दूध और अन्य खाद्य पदार्थों के लगातार बढ़ते दामों के बीच सितंबर के अंतिम सप्ताह में खाद्य पदार्थों की महंगाई दर बढ़कर 9.41 फ़ीसदी दर्ज हुई है.

ये आंकड़े सितंबर के अंतिम सप्ताह के हैं.

थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित खाद्य मुद्रास्फीति इससे पिछले सप्ताह 9.13 फ़ीसदी और पिछले साल इसी दौरान 16.88 फ़ीसदी थी.

वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी ने खाद्य पदार्थों की क़ीमतों में बढ़ोत्तरी पर चिंता ज़ाहिर की है.

बढ़ती क़ीमतें

वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस सप्ताह में सब्ज़ियों के दाम पिछले सप्ताह के मुकाबले 14.88 फ़ीसदी ज़्यादा रहे.

साथ ही फलों के दामों में 11.72 फ़ीसदी, दूध के दामों में 10.35 फ़ीसदी और अंडा, मांस एवं मछली के दामों में औसतन 10.33 फ़ीसदी की वृद्धि दर्ज हुई.

अनाज की कीमतों में 4.57 फ़ीसदी और दालों में 7.54 फ़ीसदी की तेज़ी दिखी. समाचार एजेंसी पीटाआई के मुताबिक खाद्य पदार्थों की महंगाई दर को लेकर जारी ताज़ा आंकड़ों पर चिंता ज़ाहिर करते हुए वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने कहा है, ''ऊंची खाद्य मुद्रास्फति निश्चित तौर पर चिंता का विषय है. इसे नीचे लाने के लिए क्या कदम उठाए जा सकते हैं इस पर हम विचार करेंगे. इस मसले पर मैं रिज़र्व बैंक के साथ लगातार संपर्क में हूं.''

इस बीच ईंधन और ऊर्जा के क्षेत्र में महंगाई दर पिछले सप्ताह की तरह 14.69 फ़ीसदी ही रही.

इस साल मानसून सामान्य रहा और सरकार ने उम्मीद जताई थी कि मुद्रास्फीति में नरमी आएगी.

लगातार बढ़ती महंगाई पर नियंत्रण के लिए मार्च 2010 से अब तक रिज़र्व बैंक 12 बार ब्याज़ की दरें बढ़ा चुका है.

संबंधित समाचार