बड़े बैंकों की क्रेडिट रेटिंग में कटौती का ख़तरा

standard and poor's downgrade spain इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption स्पेन के लिए कर्ज़ लेना महंगा हो सकता है.

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड एंड पुअर्स ने यूरोपीय देश स्पेन की रेटिंग कम कर दी है.

संस्था ने स्पेन की क्रेडिट रेटिंग को एए से गिराकर एए (-) कर दी है, यानि अब एजेंसी के आकलन में क़र्ज़ लेने-देने के मामले में स्पेन तीसरी श्रेणी में है.

ऐसा स्पेन के निजी क्षेत्र में बढ़ते कर्ज़ और कमज़ोर विकास दर को देखते हुए किया गया है.

संस्था ने ये भी कहा है कि स्पेन में बेरोज़ग़ारी की दर भी काफ़ी ऊंची है जिसका असर उसकी अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा.

एक जारी बयान में कहा गया है, "साल 2011 में स्पेन की अर्थव्यवस्था में लचीलापन दिखने के बावजूद हमें स्पेन के विकास में कई ख़तरे नज़र आ रहे हैं जैसे बढ़ी हुई बेरोज़ग़ारी, तंग आर्थिक स्थिति, निजी क्षेत्र पर कर्ज़ का दबाव और स्पेन के साथ व्यापार करने वाले देशों की अर्थव्यवस्था में आने वाली मंदी."

कर्ज़ लेना होगा महंगा

पिछले सप्ताह एक दूसरी क्रेडिट एजेंसी फिच ने भी स्पेन की क्रेडिट रेटिंग कम कर दी थी. समझा जाता है कि इससे स्पेन की लिए कर्ज़ लेना महंगा हो सकता है.

फिच ने यूरोप के कई बैंकों को भी अपनी वॉच लिस्ट पर रखा है. यानि, इनके प्रदर्शन पर विशेष निगरानी रखी जाएगी. साथ ही इन बैंको की क्रेडिट रेटिंग गिरने का ख़तरा भी बढ़ गया है.

फिच ने यूरोपीय बैंक जैसे डॉशे बैंक, म़ॉर्गन स्टेनली और गोल्डमैन सैच को इस लिस्ट में रखा है.

संस्था ने स्विस बैंक यूबीएस की रेटिंग कम कर दी है.

फिच का कहना है कि ये बैंक यूरोप में बढ़ते कर्ज़ की चपेट में आ सकते हैं और यूरोपीय देशों की कमज़ोर होती अर्थव्यवस्था के कारण इसकी संभावना कम है कि वहां की सरकारें संकट आने पर इन बैंकों की मदद कर सकेंगी.

आर्थिक संकट

स्पेन के साथ कई दूसरे यूरोपीय देश भी पिछले कुछ समय से आर्थिक संकट से गुज़र रहे हैं. यूरोपीय देशों ने ऑयरलैंड और ग्रीस की अर्थव्यवस्था को संकट से उबारने के लिए क़र्ज़ भी दिए हैं.

यूरोज़ोन गुट के प्रमुख ज़्यां क्लोद युंकर पहले ही चेतावनी दे चुके हैं कि ग्रीस का क़र्ज़ संकट अपने साथ यूरोज़ोन के कम से कम पाँच और देशों को ले डूबेगा.

ऋण संकट से जूझ रहे इटली ने हाल ही में कटौतियों का ऐलान किया है.

संबंधित समाचार