सोनी ने एरिक्सन का शेष हिस्सा भी ख़रीदा

Image caption सोनी की नई सहायक कंपनी 2012 से केवल स्मार्टफ़ोन बनाएगी

जापान की टेक्नोलॉजी क्षेत्र की बड़ी कंपनी सोनी ने टेलिकॉम उपकरण बनाने वाली स्वीडेन की एरिक्सन से मोबाइल फ़ोन बनाने वाली कंपनी सोनी एरिक्सन के नियंत्रण का पूरा अधिकार ख़रीद लिया है.

सोनी ने सोनी एरिक्सन का शेष 50 फ़ीसदी हिस्सा डेढ़ अरब डॉलर में ख़रीद कर एरिक्सन के मोबाइल फ़ोन कारोबार को पूरी तरह सोनी की सहायक कंपनी बना दिया है.

एरिक्सन का कहना है कि टेलिकॉम उपकरण और मोबाइल फ़ोन के बीच तालमेल में कमी आ रही थी.

इस खरीद से सोनी को पेटेंट संबंधी कई अधिकार भी हासिल हो जाएंगे.

सोनी को पांच तरह के पेटेंट अधिकार मिल जाएंगे जो फ़ोन बनाने के लिए ज़रूरी हैं.

स्मार्टफ़ोन

कई पर्यवेक्षक इस क़रार की उम्मीद कर रहे थे क्योंकि सोनी अपने फ़ोन कारोबार को मोबाइल गेम और टैबलेट कंप्यूटर कारोबार के साथ जोड़ना चाह रहा था.

सोनी के चेयरमैन सर हावर्ड स्ट्रिंगर ने कहा, ''ये अधिग्रहण सोनी और एरिक्सन दोनों ही कंपनियों के लिए मायने रखता है और इसका फ़ायदा उपभोक्ताओं को मिलेगा जो कहीं भी और कभी भी जानकारी हासिल करना चाहते हैं.''

इस महीने की शुरुआत में सोनी एरिक्सन को तीसरी तिमाही में भी नुक़सान हुआ था और कंपनी ने घोषणा की थी कि 2012 से वो स्मार्टफ़ोन के कारोबार पर ध्यान केंद्रित करेगी.

कंपनी का कहना था कि इसकी कुल फ़ोन बिक्री का 80 फ़ीसदी हिस्सा 'एक्सपेरिया' स्मार्टफ़ोन का है.

सोनी एरिक्सन के मोबाइल फ़ोन में गूगल के एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल होता है.

संबंधित समाचार