ब्रिटेन ने ईरानी बैंकों से लेन-देन बंद किया

इमेज कॉपीरइट AP

ब्रिटेन ने नए प्रतिबंधों के तहत ईरान के सभी बैंकों के साथ वित्तीय लेन-देन बंद करने का फ़ैसला किया है.

ऐसा आईएईए की रिपोर्ट के बाद किया गया है जिसमें ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर गहरी चिंता जताई गई है.

सोमवार को तीन जीएमटी के बाद से सभी ब्रितानी क्रेडिट और वित्तीय संस्थानों को ईरानी बैंकों के साथ लेन-देन बंद करने हैं. इसमें सेन्ट्रल बैंक ऑफ़ ईरान भी शामिल है.

ब्रिटेन के वित्त मंत्री जॉर्ज ओसबोर्न ने कहा है कि इस बात के सुबूत हैं कि ईरान के बैंक परमाणु कार्यक्रम के लिए धनराशि दे रहे हैं.

ऐसा पहली बार हुआ है जब ब्रिटेन ने 2008 के आतंकवाद निरोधी क़ानून के तहत अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर किसी देश के साथ बैंकिंग रिश्ते ख़त्म किए हैं.

माना जा रहा है कि अमरीका और कनाडा भी ईरान पर नए प्रतिबंध लगाएँगे.

ब्रितानी वित्त मंत्राल ने एक बयान में कहा है, "ईरानी बैंक ईरान के परमाणु कार्यक्रम के लिए धन मुहैया कराने में अहम भूमिका निभाते हैं. परमाणु प्रसार में लगी कंपनियों को बैंकों की ज़रूरत पड़ती है. ईरानी बैंकों के साथ नाता तोड़कर हम ये सुनिश्चित करना चाहते हैं कि ईरानी बैंक ब्रितानी वित्तीय क्षेत्र का इस्तेमाल परमाणु प्रसार से जुड़ी किसी गतिविधि के लिए न कर पाए."

आईएईए ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ईरान में ऐसी गतिविधियाँ हुई हैं जो परमाणु हथियार बनाने की ओर इशारा करती हैं.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक आईएईए की रिपोर्ट के बावजूद ईरान का मामला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद नहीं भेजा गया है क्योंकि रूस और चीन इसके ख़िलाफ़ हैं.

संबंधित समाचार