खाद्य पदार्थों की क़ीमतों में गिरावट

  • 1 दिसंबर 2011
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption भारत में पिछले कई महीनों से मंहगाई की दर काफी ऊपर है.

भारत में खाद्य पदार्थों की क़ीमतों में अब थोड़ी सी गिरावट आई है और 19 नवंबर को खत्म हुए सप्ताह में थोक मूल्य सूचकांक 7.74 प्रतिशत पर पहुंच गया है.

खाद्य पदार्थों के सूचकांक में अच्छी कमी देखी गई है क्योंकि सब्ज़ी और फलों की क़ीमतों में पाँच प्रतिशत कमी हुई है.

मछली उत्पादों की क़ीमत में दो प्रतिशत जबकि ज्वार, दालें और मुर्गी की क़ीमतों में एक प्रतिशत की गिरावट हुई है.

हालांकि दूध, मटन, पोर्क और चाय की क़ीमतों में एक प्रतिशत की उछाल देखी गई है.

गैर खाद्य उत्पादों की क़ीमतों में 1.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई है. खनिज पदार्थों की कीमतें 0.2 प्रतिशत बढ़ी हैं क्योंकि बाक्साइट की क़ीमतों में नौ प्रतिशत, क्रोमाइट में एक प्रतिशत और स्टिएटाइट की क़ीमतों में 13 प्रतिशत बढ़ोतरी आई है.

ईंधन और ऊर्जा क्षेत्र के उत्पादों में भी 0.2 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है नाप्था और तेल की क़ीमतें तीन प्रतिश बढ़ी हैं जबकि विमान ईंधन की क़ीमतों में दो प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है जबकि पेट्रोल में तीन प्रतिशत और डीज़ल तेल में दो प्रतिशत की कमी आई है.

संबंधित समाचार