नैनो के बाद अब बजाज की छोटी कार

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बजाज ऑटो के प्रबंध निदेशक राहुल बजाज के मुताबिक ये कार ऑटो रिक्शा की श्रेणी को आधुनिक रूप देना चाहती है.

दुपहिया वाहन बनाने वाली भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी बजाज ऑटो ने कम कार्बन उत्सर्जन वाला चौपहिया वाहन ‘आर-ई60’ राजधानी दिल्ली में प्रदर्शित किया है.

बजाज ऑटो में प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने बताया कि कम प्रदूषण फैलानी वाली इस कार को शहरों में सार्वजनिक वाहन के तौर पर इस्तेमाल के लिए विकसित किया गया है.

उन्होंने कहा, “हमारी कोशिश है कि हमारी कार भारत में ऑटो रिक्शा की जगह ले ले, वही हमारे मुख्य उपभोक्ता हैं लेकिन कोई और भी इसे पसंद करे तो अपने घर ले जा सकता है.”

बजाज के मुताबिक अगले कुछ महीनों में इस कार का उत्पादन शुरू हो जाएगा और बाज़ार में उतारते वक्त ही इसके दाम का ऐलान किया जाएगा.

कम प्रदूषण

कार का नाम ‘आर-ई60’ इसलिए रखा गया है क्योंकि कंपनी के मुताबिक इस कार से प्रति किलोमीटर सिर्फ़ 60 ग्राम कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जित होगा जो इस श्रेणी की अन्य कारों से आधा है.

कार के बाज़ार में पहली बार कदम रखते हुए बजाज ऑटो का दावा है कि ये कार कम ईंधन में ज़्यादा किलोमीटर चलेगी और शहरों में प्रदूषण और बढ़ते ट्रैफ़िक से निपटने में कारगर साबित होगी.

कंपनी के मुताबिक 400 किलोग्राम के वज़न और 200 सीसी के इंजन वाली ‘आर-ई60’, 35 किलोमीटर प्रति लीटर की औसत से चलेगी. कार अधिकतम 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार तक पहुंच सकेगी.

बजाज ऑटो ने पिछले वर्ष ऐसी कार बनाने के लिए जापान की निस्सान मोटर कंपनी और फ़्रांस की रेनौ एसए कंपनी के साथ मिलकर काम शुरू किया था लेकिन आखिरकार ‘आर-ई60’ को ख़ुद ही विकसित किया.

‘आर-ई60’ कार को बजाज ऑटो के औरंगाबाद स्थित प्लांट में बनाया जाएगा.

किसकी प्रतिद्वंदी?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption टाटा ने अब नैनो 2012 के नए मॉडल बाज़ार में उतारे हैं और इनका दाम क़रीब 1,40,000 रुपए से शुरू होता है.

इस प्रदर्शनी से पहले इस कार को टाटा की नैनो कार का प्रतिद्वंदी माना जा रहा था. महिन्द्रा कंपनी की बैटरी से चलने वाली रीवा कार के अलावा ईंधन से चलने वाली छोटी कारों की श्रेणी में अब तक केवल टाटा की नैनो कार ही बाज़ार में थी.

टाटा की नैनो कार मार्च 2009 में बाज़ार में आई थी. एक लाख रुपए की कीमत का दावा होने की वजह से उसे ‘लखटकिया’ का नाम दिया गया था. बाज़ार में नैनो कार का दाम अब 1,40,000 रुपए है.

इस कार का दाम तो अभी घोषित नहीं किया गया लेकिन ऑटोमोबाइल मामलों के जानकार मुराद अली बेग के मुताबिक ‘आर-ई60’ ऑटो रिक्शा और नैनो के बीच एक नई श्रेणी बना रही है.

बेग ने बीबीसी को बताया, "200 सीसी के इंजन का मतलब ये है कि नैनो से सीधे टक्कर नहीं है, बजाज ने बहुत सूझबूझ से ऐसा वाहन निकाला है जिसमें तेज़ पिक-अप ना भी हो लेकिन 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार तक जाने की क्षमता है और जो शहर में आवाजाही के लिए ठीक है."

बेग के मुताबिक ये कार सार्वजनिक वाहन के तौर पर ज़्यादा इस्तेमाल होगी या निजी वाहन की तरह ये तो उसका दाम तय होने और बाज़ार में आने के बाद उसके प्रदर्शन पर निर्भर करेगा. उनका आंकलन है कि ऑटो रिक्शा के मुकाबले ‘आर-ई60’ ज़्यादा स्थिर वाहन होगा.

संबंधित समाचार