यूरोपीय नेता दिलेर बनें: कैमरन

डेविड कैमरन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कैमरन का भाषण उस समय आया है जब ब्रितान अर्थव्यवस्था के 2011 की चौथी तिमाही में 0.2 प्रतिशत सिकुड़ने की ख़बर आई है

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि यदि यूरोपीय नेताओं को आर्थिक मुश्किलों से बाहर निकलना है तो वे 'और हौसला दिखाएँ.'

दावोस में विश्व आर्थिक मंच को संबोधित करते हुए कैमरन ने कहा है कि ये 'यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं के लिए ख़तरे का समय है और केवल थोड़े-बहुत बदलाव से फ़र्क नहीं पड़ेगा.'

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने दावोस में कहा, "सच यह है कि हम अब और इंतज़ार नहीं कर सकते हैं. हमें इच्छुक देशों के गठबंधन बनाकर भारत, कनाडा और सिंगापोर के साथ व्यापार संधियाँ करनी चाहिए."

ग़ौरतलब है कि कैमरन का भाषण उस समय आया है जब सरकारी आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2011 की आख़िरी तिमाही में ब्रितानी अर्थव्यवस्था 0.2 प्रतिशत सिकुड़ी है और आर्थिक मंदी के लौटने का ख़तरा बना हुआ है.

इसी हफ़्ते अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने आर्थिक विकास के अनुमान में संशोधन कर इसके सिकुड़ने की बात कही है.

'यूरोज़ोन पर पुनर्विचार'

बुधवार को जर्मनी की चांस्लर एंगेला मर्कल ने कहा था कि यूरोज़ोन के मुद्दे पर व्यापक तौर पर पुनर्विचार की ज़रूरत है ताकि रोज़गार पैदा किए जा सकें और जीवन स्तर को बेहतर बनाया जा सके.

पश्चिमी देशों में से पिछले पाँच वर्षों में बेहतर प्रदर्शन दिखाने वाली अर्थव्यवस्था कनाडा के प्रधानमंत्री स्टीफ़न हार्पर ने कहा है कि उन्हें 'चिंता होती है कि क्या पश्चिमी देशों की प्राथमिकता समृद्धि ही है या फिर बहुत से पश्चिमी देश समृद्धि के बारे में संतुष्ट और आलसी हो गए हैं.'

उधर अमरीकी केंद्रीय बैंक - फ़ैड्रल रिज़र्व ने कहा है कि उसकी मुख्य ब्याज दर कम से कम 2014 तक काफ़ी कम स्तर पर ही रहेगी.

बैंक के चेयरमैन बेन बर्रनानके ने कहा कि यदि आर्थिक स्थित बदलती है तो इस पर पुनर्विचार हो सकता है जबकि पर्यवेक्षकों का मानना है कि केंद्रीय बैंक का अनुमान है कि अर्थव्यवस्था पर कुछ देर तक दबाव बना रहेगा.