कमजोर बाजारों में ओएनजीसी की धूम

  • 1 मार्च 2012
ओएनजीसी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ओएनजीसी विनिवेश से 12000 से 13000 करोड़ रुपए अर्जित करना चाहती है

भारत सरकार द्वारा नीलाम किए जा रहे ओएनजीसी के पांच फीसदी शेयरों की नीलामी को बाजारों में अच्छा समर्थन मिलता दिख रहा है.

भारत सरकार गुरुवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर ओएनजीसी के अपने पास मौजूद 74.14 फ़ीसदी शेयरों में से पांच फ़ीसदी शेयरों को नीलम कर रही है.

सरकार को उम्मीद है कि इस विनिवेश से उसको 12000 से 13000 करोड़ रूपये तक मिल जाएंगें. यह नीलामी सुबह 9.30 शुरू हुई है जो दोपहर 3.30 तक चलेगी.

शेयरों में उछाल

यूं तो भारतीय शेयर बाज़ार समग्र रूप से बढ़त पर नहीं चल रहे हैं लेकिन ओएनजीसी के शेयर गुरुवार को अपेक्षाकृत रूप से मजबूती के साथ खुले. सुबह 9.30 बजे ओएनजीसी के शेयर 0.5 प्रतिशत की बढ़त के साथ 294.75 रूपये तक जा पहुंचे. कुछ ही मिनटों में यह शेयर 296.50 रुपयों तक पहुँच गए.

ओएनजीसी के शेयरों में उत्साह बाज़ार के आम माहौल के विपरीत था. ओएनजीसी के शेयर जहाँ चढ़ते जा रहे थे वहीं बीएसई का संवेदी सूचकांक एक फ़ीसदी नीचे चल रहा है.

सरकार ने ओएनजीसी के शेयरों के लिए फ्लोर प्राइज़ 290 रूपये रखी है और शेयरों को कीमतों की प्राथमिकता के आधार पर या आसान लफ़्ज़ों में कहें तो सबसे ऊँची कीमत लगाने वाले को दिया जाएगा.

नीलामी के एक दिन पहले ओएनजीसी के शेयर बीएसई पर तीन फ़ीसदी बढ़ कर 293.35 तक पहुँच गए थे.

सोमवार को बीएसई पर ओएनजीसी के शेयरों का दाम 283 .55 रूपये था. एनएसई पर सोमवार को यह शेयर 283.05 रुपयों पर बंद हुए थे.

सरकार ने तय किया है कि म्युच्युल फंड को छोड़ कर किसी भी एक खरीददार को बेचे जाने वाले कुल शेयरों का 25 फ़ीसदी से अधिक नहीं दिया जाएगा.

अगर सरकार को शेयरों की संख्या से कम की मांग दिखती है तो सरकार के पास यह अधिकार सुरक्षित रहेगा कि वो शेयरों की बिक्री रोक दे या उन्हें बेच कर सौदा समाप्त करे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार