कपास निर्यात पर प्रतिबंध हटाने का आग्रह

फाइल फोटो
Image caption भारत से निर्यात हुए कपास का 80 प्रतिशत चीन जाता है

भारत के कृषि मंत्री शरद पवार ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर देश से कपास के निर्यात पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग की है.

शरद पवार ने कहा है कि कपास के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के मामले में उन्हें अंधेरे में रखा गया.

भारत सरकार ने देश में कपास की घटती पैदावार के मद्देनजर कपास के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने की सोमवार को घोषणा की थी.

चीन से बढ़ी मांग की वजह से भारत से निर्यात पिछले दिनों उम्मीद से ज्यादा बढ़ गया है.

'गिर रही है कीमत'

कृषि मंत्री शरद पवार ने मंगलवार को नई दिल्ली में कहा, ''ये एक बेहद गंभीर मुद्दा है.''

उन्होंने कहा, ''इस मामले में मुझे अंधेरे में रखा गया. मैंने प्रतिबंध हटाने का प्रधानमंत्री से आग्रह किया है क्योंकि इस साल हमारी पैदावार अच्छी है और किसान गिरती कीमतों की शिकायत कर रहे हैं.''

उधर भारत का टेक्सटाइल उद्योग कपास की इस कमीं और ऊंची कीमतों को लेकर चिंतित है.

चीन के बाद, भारत कपास उत्पादन में और निर्यात में विश्व में दूसरे स्थान पर है.

विश्लेषकों का कहना है कि सरकार के इस कदम से दुनियाभर में कपास की आपूर्ति कम होगी और उसकी कीमतों में बढ़ोतरी होगी.

विदेश व्यापार महानिदेशालय से जारी एक बयान में कहा गया है, ''अगले आदेश तक कपास के निर्यात पर रोक लगा दी गई है और अब किसी को निर्यात की अनुमति नहीं दी जाएगी.''

संबंधित समाचार