ज़्यादा वेतन लेने के खिलाफ मुकदमा

विक्रम पंडित
Image caption विक्रम पंडित पिछले साल दुनिया मे 45 वें सबसे ज़्यादा वेतन पाने वाले आदमी थे.

सिटीबैंक समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी या सीईओ विक्रम पंडित और समूह के अन्य निदेशकों के खिलाफ अमरीका में बैंक के एक शेयरधारक ने ज़्यादा वेतन लेने का आरोप लगाते हुए मुकदमा कर दिया है.

शुक्रवार को मैनहटन की एक अदालत में बैंक के शेयर धारक स्टेनली मोस्कल ने आरोप लगाया है कि पंडित व अन्य निदेशकों ने बैंक के अधिकारियों को साल 2011 में साढ़े पांच करोड़ डॉलर का वेतन दे कर शेयर धारकों के विश्वास को तोड़ा है.

इस पैसे में से डेढ़ करोड़ डॉलर पंडित को दिए गए जो कि साल 2010 के मुकाबले में उनके वेतन में 1,499,999,900 ( करीब पंद्रह लाख) प्रतिशत की वृद्धि है.

इस अवधि में बैंक के शेयर के मूल्य में 44 फ़ीसदी की कमी आई है.

विक्रम पंडित पिछले साल दुनिया मे 45 वें सबसे ज़्यादा वेतन पाने वाले आदमी थे. अमरीका से शुरू हुई वैश्विक आर्थिक मंदी के दौरान साल 2009 और साल 2010 के अधिकांश हिस्से में उन्होंने साल भर में महज़ एक डॉलर का ही वेतन लिया था.

इसके पहले मंगलवार को सिटी बैंक के शेयर धारकों ने बैंक की सालाना बैठक में एक मतदान के दौरान बहुमत से कहा था कि बैंक के अधिकारियों के बढे़ हुए वेतन शेयरधारकों को होने वाले लाभ की तुलना में कहीं ज़्यादा हैं.

सिटी का कहना है कि यह मुकदमा आधारहीन हैं और वो अदालत से इसे रद्द कर देने का अनुरोध करेगें.