एशियाई बाजारों में उछाल, फेडरल रिजर्व की घोषणा का इंतजार

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

भारत समेत एशियाई देशों की स्टॉक मार्केट में सोमवार को बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है. उम्मीद जताई जा रही है कि अमरीका में फेडरल रिजर्व अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए रियायतें दे सकता है. इसी खबर का बाजार पर सकारात्मक असर पड़ा है.

सोमवार को भारत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में शुरुआत कारोबार में 137 अंकों की बढ़तोरी दर्ज हुई. निफ्टी ने 5200 का आँकड़ा पार किया. रिएल्टी सेक्टर और आईटी समेत कई क्षेत्रों के शेयरों में उछाल देखा जा रहा है.

एशियाई शेयर बाजार में हॉंग कॉंग के हैंग सैंग में हुए शुरुआती कारोबार में बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है. ऑस्ट्रेलिया में बाजार 0.60 और सोल में 0.20 की बढ़त के साथ खुला. चीन और जापान में छुट्टी के कारण बाजार बंद है.

इससे पहले शुक्रवार को वॉल स्ट्रीट पर बाज़ार बढ़त पर बंद हुआ था. इस हफ्ते कई अहम घोषणएँ होनी हैं जिनका बाजार पर असर पड़ सकता है. चीन में मैन्युफैक्चरिंग उद्योग से जुड़े आँकड़ें आने हैं, अमरीका में रोजगार से जुड़े आँकड़े घोषित होंगे और यूरोपीय केंद्रीय बैंक भी अहम फैसले ले सकता है.

यूरोप और अमरीका के आर्थिक संकट का चीन समेत कई अर्थव्यवस्थाओं पर असर पड़ा है. वित्तीय संकट से निपटने के लिए कई यूरोपीय देशों ने सरकारी खर्च में कटौती की घोषणा की है.

उधर अंतरराष्ट्रीय मजदूर संगठन(आईएलओ) ने आगाह किया है कि आर्थिक कटौतियों के कारण, (खासकर विकसित देशों में) नौकरियों के अवसरों पर असर पड़ रहा है. आईएलओ ने बेरोजगारी को लेकर चिंता जताई है.

एजेंसी ने अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा है कि इस बात के आसार कम ही हैं कि अगले कुछ वर्षों में विश्व की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ पाएगी जिससे कि नौकरियों के अवसरों में आई कमी दूर की जा सके.

विदेशी निवेश

अगर विदेशी निवेश की बातें करें तो भारतीय शेयर बाजार में दस सबसे मूल्यवान कंपनियों में से सात कंपनियों के बाजार भाव में जबर्दस्त गिरावट आई है.

इन कंपनियों के भाव गिरने का मूल्य 28,760 करोड़ रुपए लगाया गया है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के बाजार भाव में आई गिरावट करीब 8,217 करोड़ रुपए है.

भारती एयरटेल, एनटीपीसी ओएनजीसी, इंफोसिस और एचडीएफसी के भी भाव गिरे हैं. जबकि रिलायंस इंडस्ट्रीज़, टीसीएस और आईटीसी का बाजार भाव बढ़ा है.

संबंधित समाचार