स्पेन के बैंक बेहाल, आर्थिक मदद की कगार पर

  • 9 जून 2012
संकट में यूरो इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption यूरो मुद्रा को संकट से उबारना यूरोपीय संघ के सामने सबसे बड़ी चुनौती है.

कभी ग्रीस और ऑयरलैंड को वित्तीय मदद पहुंचाने में सहायता करने वाली यूरोजोन की चौथी बड़ी अर्थव्यवस्था स्पेन के बैंक स्वंय आर्थिक संकट के चक्र में फंसते दिख रहे हैं और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी आईएमएफ का कहना है कि उन्हें मुश्किल हालात से उबारने के लिए लगभग 50 अरब डॉलर की अतिरिक्त राशि की जरूरत होगी.

आईएमएफ के अनुसार आर्थिक संकट से मुकाबला करने को बैंकों के लिए जो कसौटी तय की गई उसमें इस अतिरिक्त धन को शामिल नहीं किया गया था जिसकी जरूरत स्पेन को अपने बैंकिंग क्षेत्र के पुनर्गठन और कर्जों से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए पड़ रही है.

कुल मिलाकर स्पेन के बैंकिंग क्षेत्र को स्थिर करने के लिए कम से कम इससे दोगुनी रकम की जरूरत होगी. हालांकि आईएमएफ ने शुक्रवार को जारी वित्तीय क्षेत्र मूल्यांकन कार्यक्रम की रिपोर्ट में किसी आंकड़े का जिक्र नहीं किया है.

अपने बैंकों की हालत को दुरुस्त करने के लिए स्पेन यूरोजोन से मदद मांग सकता है. इस तरह वो यूरोप का कर्ज संकट शुरू होने के बाद मदद मांगने वाला चौथा देश बना जाएगा.

आईएमएफ का कहना है कि वो स्पेन के केंद्रीय बैंक के साथ मिल कर काम करेगा ताकि देश के वित्तीय संस्थानों का मूल्यांकन किया जा सके.

क्यों है संकट?

स्पेन का वित्तीय क्षेत्र ग्रीस की तरह अत्यधिक सरकारी खर्चों की वजह से संकट में नहीं फंसा है, बल्कि उसके बैंक जमीन जायदाद से जुड़े कारोबार का बुलबुला फूंटने के कारण मुश्किलों का शिकार हैं.

बैंकों की ओर से दिए गए बहुत से ऐसे कर्जे हैं जिनके वापस भुगतान की उम्मीद न के बराबर है. स्पेन तीन साल के भीतर दूसरी बार मंदी का शिकार बना है, ऐसे कर्जों की संख्या और बढ़ सकती है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल यूरो कर्ज संकट निवारण के लिए काम करती रही हैं.

स्पेन में बेरोजगारी की दर 25 प्रतिशत हो गई है, जिसके चलते लोगों के लिए व्यक्तिगत कर्जों को चुकाना और मुश्किल होगा. स्पेन के केंद्रीय बैंक 'बैंक ऑफ स्पेन' का कहना है कि देश के बैंकों के 184 अरब यूरो जमीन जायदाद से जुड़े क्षेत्र में फंसे हैं.

स्पेन 17 देशों के यूरोजोन में जर्मनी, फ्रांस और इटली के बाद चौथी सबसे बडी़ अर्थव्यवस्था आंकी जाती है. उसकी अर्थव्यवस्था ग्रीस की अर्थव्यवस्था से लगभग पांच गुनी बड़ी है. इसलिए उसकी आर्थिक दिक्कतें यूरोप को और अधिक परेशानियों में डाल सकती हैं.

बढ़ी यूरोजोन की चिंता

बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक स्पेन के बैंकों की मदद के लिए यूरोजोन के वित्त मंत्रियों का सम्मेलन बुलाया जा रहा है.

अब तक यूरोपीय संघ के अधिकारी इन खबरों को ज्यादा तवज्जो नहीं दे रहे थे कि स्पेन को मदद की जरूरत पड़ सकती है. लेकिन पुर्तगाली रेडियो के साथ एक इंटरव्यू में यूरोपीय केंद्रीय बैंक के उपाध्यक्ष विक्टर कोस्तांसियो ने बताया कि मदद की जल्द अपील की जा सकती है.

मैड्रिड में बीबीसी संवाददाता टॉम बरीज के अनुसार स्पेन पर यूरोपीय संघ की तरफ से तत्काल कदम उठाने का दबाव है, खास कर अगले सप्ताहांत ग्रीस में होने वाले चुनाव से पहले, जिनसे अस्थिरता बढ़ सकती है.

ओबामा की अपील

उधर अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने यूरोपीय नेताओं से आग्रह किया है कि वे यूरोजोन के वित्तीय संकट को सुलझाने के लिए जल्द कदम उठाएं क्योंकि इस नाजुक दौर में यदि यूरोप मंदी में धंसता है तो अमरीकी अर्थव्यवस्था पर भी विपरीत प्रभाव पड़ेंगे.

राष्ट्रपति कार्यालय में अर्थव्यवस्था पर बोलते हुए ओबामा ने यूरोपीय नेताओं से रोजगार के अवसर पैदा करने और आर्थिक विकास बढ़ाने का आग्रह किया.

इससे पहले क्रेडिट रेटिंग एजेंसी फिच ने स्पेन की कर्ज चुका सकने की क्षमता को नीचे कर दिया है. फिच का अनुमान है कि स्पेन के बैंक को कम से कम 75 अरब डॉलर की आर्थिक मदद की जरूरूत पड़ सकती है.

संबंधित समाचार