पाँच अरब डॉलर का निवेश करेगा कोका-कोला

कोका-कोला
Image caption उद्योग जगत के अनुमानों के मुताबिक भारतीय बाजार में कोका-कोला की 58 फीसदी हिस्सेदारी है

कोको-कोला ने कहा है कि भारत के बाजार में अपनी पकड़ और मजबूत करने के लिए वो अपनी सहयोगी कंपनियों के साथ मिलकर पांच अरब डॉलर का निवेश करेगा.

कंपनी भारत में ये निवेश संयोजित तरीके से आठ वर्षों में करेगी. कोका-कोला की ओर से पहले घोषित की गई निवेश राशी इससे तीन अरब डॉलर कम थी.

कोका-कोला के लिए भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ रहे बाजारों में से एक है और यहां कंपनी की बिक्री भी लगातार बढ़ रही है.

हालांकि कंपनी का मुख्य उत्पाद ‘कोक’ शीतलपेय बनाने वाली कंपनी पेप्सिको के ‘पेप्सी’ से भारत में अभी तक पिछड़ा हुआ है.

अलग-अलग अनुमानों के अनुसार भारतीय बाजारों में कोक की हिस्सेदारी नौ प्रतिशत है, जबकि पेप्सी की हिस्सेदारी 15 प्रतिशत है.

कोका कोला-पेप्सिको का मुकाबला

हालांकि अगर समूचे भारतीय बाजार की बात करे तो कोका-कोला अपने प्रतिद्वंदवी कंपनी पेप्सिको से कुछ आगे है.

उद्योग जगत के अनुमानों के मुताबिक, भारतीय बाजार में कोका-कोला की 58 फीसदी हिस्सेदारी है, जबकि पेप्सिको की हिस्सेदारी 38 फीसदी है.

कोका-कोला कंपनी को भारतीय बाजार में मिली बढ़त के लिए शीतल पेय थम्स अप और स्प्राइट का अहम योगदान है. दोनों ही कोल्ड ड्रिंक भारत में काफी लोकप्रिय माने जाते है.

इस साल के शुरुआत में कोका-कोला ने कहा था कि भारत में पिछले साल के पहली तिमाही में उनके उत्पादों की बिक्री में 20 फीसदी का इजाफा हुआ है.

कोका-कोला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुहतार केंट ने कहा कि कंपनी अपने विकास को और आगे तक ले जाना चाहती है ताकि वो अपने प्रतिद्वंद्वी कंपनियों से आगे रह सके.

केंट का कहना है कि उनकी कंपनी ने भारत में निवेश बढ़ाने का फैसला लिया है क्योंकि वो मानते है कि यहां अब भी आगे बने रहने की गुंजाइश है.

संबंधित समाचार