माइक्रोसॉफ्ट को 24 साल में पहली बार हुआ घाटा

  • 20 जुलाई 2012
माइक्रोसॉफ्ट इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कंप्यूटर जगत में लंबे समय तक माइक्रोसॉफ्ट का दबदबा रहा है.

कंप्यूटर क्षेत्र की दिग्गज कंपनी माइक्रोसॉफ्ट को पिछले 24 साल में, किसी भी तिमाही में पहली बार घाटा उठाना पड़ा है. जून में खत्म हुई तिमाही में कंपनी को ये घाटा उसके ऑनलाइन विज्ञापन कारोबार में कमी आने के बाद हुआ है.

माइक्रोसॉफ्ट ने अपनी डिजिटल मार्केटिंग सर्विस एक्वांटिव के मूल्य में 6.2 अरब डॉलर की कमी की थी जिसके बाद उसे ये नुकसान हुआ है. एक्वांटिव माइक्रोसॉफ्ट की उम्मीद के मुताबिक मुनाफा नहीं दे पाई.

इसकी वजह से जून में खत्म होने वाली तिमाही में कंपनी को 49.2 करोड़ डॉलर का घाटा हुआ है जबकि पिछले साल उसे इसी अवधि में 5.9 अरब डॉलर का फायदा हुआ था.

माइक्रोसॉफ्ट को 1986 में शेयर बाजार में उतरने के बाद से कभी घाटा नहीं हुआ था.

विंडोज की लोकप्रियता घटी

कंपनी ने 2007 में एक्वांटिव का अधिग्रहण किया था लेकिन उसे अपने प्रतिद्वंद्वी गूगल से मुकाबला करने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ी.

माइक्रोसॉफ्ट ने एक्वांटिव को 6.3 अरब डॉलर में खरीदा था.

Image caption माइक्रोसॉफ्ट अपने नए ऑपरेटिंग सिस्टम के जरिए स्मार्टफोन बाजार में जगह बनाना चाहता है.

दूसरे क्षेत्रों में माइक्रोसॉफ्ट अच्छा प्रदर्शन कर रही है. हालांकि उसके विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की लोकप्रियता में कमी आई है जिसका पर्सनल कंप्यूटर के बाजार में वर्षों तक दबदबा रहा है.

जून में खत्म होने वाली तिमाही में माइक्रोसॉफ्ट का राजस्व चार प्रतिशत बढ़ कर 18.06 अरब डॉलर हो गया है.

विंडोज 8 की तैयारी

पूंजी में कमी के लिए किए गए समायोजन और माइक्रोसॉफ्ट के विंडोज 8 सिस्टम के लॉन्च से जुड़ी और रोक कर रखी गई कुछ आमदनी को छोड़ दिया जाए तो कंपनी ने निवेशकों की उम्मीदें से ज्यादा मुनाफा कमाया है.

इन नतीजों की घोषणा होने के बाद माइक्रोसॉफ्ट के शेयरों में 1.6 प्रतिशत का उछाल देखा गया है.

माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि विंडोज सिस्टम का अपडेट 10 साल से भी ज्यादा समय में तकनीक की दुनिया की अहम गतिविधि है.

अक्तूबर में लॉन्च होने वाली विंडोज 8 एक नए रूप में सामने आएगी और इसमें तमाम एप्लिकेशन मोजैक टाइल्स में पेश की जाएंगी.

अहम बात ये है कि माइक्रोसॉफ्ट इस ऑपरेटिंग सिस्टम को इस तरह तैयार करेगी कि वो टेबलेट कंप्यूटर पर भी काम कर सके जो इस वक्त स्मार्टफोन के साथ मिल कर कंप्यूटर बाजार का सबसे तेजी से फैलता क्षेत्र है.

माइक्रोसॉफ्ट अपना खुद का टेबलेट सरफेस भी बाजार में उतारने की तैयार कर रही है.

इसी सप्ताह माइक्रोसॉफ्ट ने अपने ऑफिस सिस्टम के नए वर्जन की एक झलक भी पेश की जिसे अगले साल जारी किया जा सकता है.

संबंधित समाचार