भारत में गोपनीय भुगतान, ओरेकल पर 20 लाख का जुर्माना

 शुक्रवार, 17 अगस्त, 2012 को 12:03 IST तक के समाचार
ओरेकल

ओरेकल, कैलीफोर्निया स्थित सॉफ्टवेयर कंपनी है

अमरीका के प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग (एसईसी) का कहना है कि ओरेकल ने 'फॉरेन करप्ट प्रैक्टिस एक्ट' का उल्लंघन किया है. इस पर ओरेकल सॉफ्टवेयर मामले को निपटाने के लिए 20 लाख डॉलर का भुगतान करने पर सहमत हो गया है.

ओरेकल सॉफ्टवेयर पर भारत में अपने बिक्री कार्यों में गोपनीय भुगतान का आरोप है.

एसईसी का कहना है कि ओरेकल ने भारत में अपनी सहायक कंपनियों को गुप्त तरीके से अवैध भुगतान करने की अनुमति दी.

क्लिक करें सॉफ्टवेयर बनाएं, ऐश करें

एसईसी का कहना है कि ओरेकल ने रिश्वत के लिए गोपनीय धन के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया.

"ये काम ओरेकल की सहायक कंपनियों ने किया, लेकिन खुद ओरेकल ने इस जोखिम को उजागर किया कि इस धन का अवैध तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है"

मार्क फेगेल, निदेशक, सीईसी

बताया जाता है कि ओरेकल ने 'फॉरेन करप्ट प्रैक्टिस एक्ट' का ये उल्लंघन वर्ष 2005 से वर्ष 2007 के दौरान किया.

एसईसी का कहना है कि ओरेकल की सहायक कंपनियों ने सॉफ्टवेयर लाइसेंस और अन्य सेवाएं भारत सरकार को बेची, जिनमें से कुछ की जानकारी उसने अपने बिक्री-ब्योरे में दर्ज नहीं की.

क्लिक करें माइक्रोसॉफ्ट को हुआ घाटा

सीईसी के सेन-फ्रांसिस्को स्थित क्षेत्रीय कार्यालय के निदेशक मार्क फेगेल ने एक बयान में कहा, ''ये काम ओरेकल की सहायक कंपनियों ने किया, लेकिन खुद ओरेकल ने इस जोखिम को उजागर किया कि इस धन का अवैध तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है.''

कैलीफोर्निया के रेडवुड शोरेज़ स्थित ओरेकल सॉफ्टवेयर ने इस मामले के निपटारे में किसी तरह की गड़बड़ी होने की बात न स्वीकार की है, न इससे इंकार किया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.