अमरीकी फ़ैसले से नाराज़ चीन

  • 22 सितंबर 2011
एफ़-16 इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अमरीका ने ताइवान के पुराने विमानों को बेहतर बनाने की योजना की पुष्टि की है

अमरीका ने ताइवान के पुराने एफ़-16 लडा़कू विमानों को और बेहतर बनाने की योजना की पुष्टि की है.

चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है और उसने अमरीका को चेतावनी दी है कि उसे पाँच अरब डॉलर के इस समझौते पर आगे नहीं बढ़ना चाहिए.

चीन ने इसके बाद अमरीकी राजदूत गैरी लॉक को बुलाकर अमरीका के इस फ़ैसले पर आपत्ति भी जताई है.

चीन के विदेश उपमंत्री झांग झिजुन ने इस फ़ैसले को देश के अंदरूनी मामलों में दख़लंदाज़ी करार दिया और कहा कि ये ताइवान की स्वतंत्रता की बात करने वाली अलगाववादी ताक़तों को बेहद ग़लत संकेत देता है.

विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर लगे बयान के अनुसार, "अमरीका के इस ग़लत रास्ते की वजह से अमरीका और चीन के रिश्तों को नुक़सान पहुँचेगा और सैनिक, सुरक्षा तथा अन्य क्षेत्रों में सहयोग और आदान-प्रदान पर भी असर होगा."

वैसे ताइपे को उम्मीद थी कि उसे अमरीका से नए और बेहतर एफ़-16 विमान हासिल हो जाएँगे मगर अमरीका का ये बयान जताता है कि अमरीका ऐसा करने नहीं जा रहा है.

अमरीकी अधिकारियों ने बताया है कि ताइवान के मौजूदा एफ़-16 लड़ाकू विमानों के पुराने पुर्जों की जगह नए पुर्जे लगा दिए जाएँगे और उससे वे आधुनिक विमानों जैसे ही हो जाएँगे.

ताइवान को उम्मीद

ताइवान के रक्षा मंत्री काओ हुआ-चू ने देर रात ताइपे में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "इस अपग्रेड के बाद वायु सेना की क्षमता काफ़ी बेहतर हो जाएगी."

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि चीन की सैन्य क्षमता के लगातार बढ़ने से उन्हें ख़तरा बना हुआ है.

एक बयान में कहा गया है, "क्षेत्रीय सुरक्षा और इस इलाक़े के सतत विकास के लिए हमारी रक्षा क्षमता में सुधार लाना ही एकमात्र और अहम रास्ता है."

मगर ताइवान ने ये भी कहा कि वह अगली पीढ़ी के एफ़16 लड़ाकू विमान ख़रीदने की अपनी कोशिशें जारी रखेगा. वे विमान चीन के आधुनिक युद्धक विमानों के जैसे ही होंगे.

ताइपे के अनुसार इस बारे में अमरीका को फ़ैसला करना है और उसने अमरीकियों से जल्द से जल्द इस पर सहमति देने की अपील की.

अमरीका का ये फ़ैसला अब संसद में सहमति के लिए जाएगा. कुछ विश्लेषक अमरीका के इस फ़ैसले को चीन को ख़ुश करने वाले क़दम के तौर पर भी देख रहे हैं क्योंकि उसने चेतावनी दी थी कि नए विमानों की बिक्री हुई तो रिश्तों पर असर पड़ेगा.

संबंधित समाचार