चीन में इंटरनेट पर फिर पहरा

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption गांववालों की ओर से जारी तस्वीरों में वुकान गांव में बड़े विरोध प्रदर्शन देखे जा सकते हैं

चीन में इंटरनेट पर निगरानी रखनेवाले अधिकारियों ने वुकान गांव में चल रहे विरोध प्रदर्शनों के बारे में जानकारी ढूंढने की कोशिशों पर रोक लगा दी है.

चीन में ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट, सिना वीबो, को इस्तेमाल करनेवालों के मुताबिक़ ‘वुकान’ शब्द से जुड़ी कोई जानकारी नहीं मिल रही है.

उनके मुताबिक़ इस शब्द से ढूंढने पर एक संदेश सामने आता है कि, “उपयुक्त क़ानून, नियम और नीतियों के तहत ‘वुकान’ से जुड़ी जानकारी नहीं दिखाई जा सकती.”

गुआंगडोंग के वुकान गांव में पिछले हफ़्ते से एक ज़मीन से जुड़ा विवाद तब गर्मा गया जब पुलिस हिरासत में एक गांववाले की मौत हो गई.

अब सैंकड़ों गांववालों और सुरक्षा बलों के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है. गांव तक जानेवाली सड़कें बंद कर दी गई हैं, एक ओर सुरक्षा बल और एक ओर गांववाले तैनात हैं.

वुकान में मौजूद बीबीसी संवाददाता मार्टिन पेशन्स के मुताबिक़ गुरुवार सुबह सैंकड़ों प्रदर्शनकारियों ने गांव के बीच रैली निकाली.

‘क्या हो रहा है?’

गांववालों का आरोप है कि भ्रष्ट स्थानीय अधिकारियों ने ठेकेदारों के साथ मिलकर उनकी ज़मीन बिना मुआवज़ा दिए ले ली.

ये विवाद सितंबर में सामने आया लेकिन फिर ठंडा पड़ गया. लेकिन इस हफ़्ते स्थानीय अधिकारियों के साथ बातचीत करने की कोशिशों में लगे गांव के एक नेता, ज़्यू जिन्बो की मौत से विरोध भड़क उठा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption वुकान गांव की ओर जानेवाली सड़कों पर पुलिस का कड़ा पहरा है.

सरकार ने पिछले हफ़्ते उन्हें अन्य गांववालों के साथ, सितंबर के प्रदर्शनों के संदर्भ में हिरासत में लिया था.

लेकिन इस ख़बर को फैलने से रोकने की कोशिशों में लगे अधिकारियों ने गांववालों की ओर से सिना वीबो वेबसाइट पर डाली गई जानकारी को फ़टाफ़ट हटा दिया है.

वुकान का प्रशासनिक कार्यभार संभालने वाली लूफेंग सरकार ने सोमवार को कहा कि उनकी मौत दिल से जुड़ी किसी बीमारी से अकस्मात हो गई.

लेकिन जल्द ही मौत की वजह पुलिस की प्रताड़ना होने के बारे में अफ़वाहें फैल गईं.

अब ‘वुकान’ के अलावा ‘शानवई’ और ‘लूफेंग’ शहर के नामों से जुड़ी जानकारी भी बाधित कर दी गई है.

वेबसाइट इस्तेमाल करनेवाले कई लोगों ने विरोध को ‘डब्ल्यूके’ बुलाना शुरू कर दिया है जिसका अनुवाद किया जा सकता है कि - ‘क्या हो रहा है?’

चीन में हर वर्ष गांवों में दंगे और प्रदर्शन होते हैं लेकिन वुकान में फैली अशांति पिछले विरोधों से बहुत बड़ी लग रही है.

संबंधित समाचार