'वायु गुणवत्ता के मापदंडों पर खरे नहीं उतरेंगे चीनी शहर'

चीन इमेज कॉपीरइट REUTERS
Image caption चीन में वायु की गुणवत्ता मापने के नए निगरानी मापदंड शुरू होने जा रहे हैं.

चीन में पर्यावरण विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि उनके देश के दो तिहाई शहर नए वायु गुणवत्ता स्तरों पर खरे नहीं उतरेंगे.

पर्यावरणीय सुरक्षा के उप-मंत्री वू शियाकिंग की ये टिप्पणी कैबिनेट द्वारा साल 2016 से लागू होने वाले नए वायु गुणवत्ता स्तरों की घोषणा के बाद आई है.

तेज़ रफ़्तार से बढ़ती चीनी अर्थव्यवस्था के बीच चीन में वायु की गुणवत्ता बदतर होती गई है.

हाल के महीनों में लोगों ने हवा का स्तर सुधारने के लिए निगरानी नियमों में परिवर्तन की मांग की है.

वू शियाकिंग ने कहा कि अनुमानों के अनुसार दो-तिहाई चीनी शहर नए मापदंडो पर खरे नहीं उतर पाएंगे. नए मापदंडों के हिसाब से चीन की चार नगरपालिकाओं में इस वर्ष से ही निगरानी शुरू हो जाएगी.

ये शहर हैं बीजिंग, तियानजिन, शंघाई और चोंगकिंग. इसके अलावा यांगत्ज़े और पर्ल नदियों के आस-पास बसे कुछ शहरों में भी नए नियमों की अधीन निगरानी शुरू हो जाएगी.

लेकिन चीन के बाकी हिस्सों में ये निगरानी साल 2015 तक ही शुरू हो पाएगी. चीन में आने वाले समय में 1,500 वायु निगरानी स्टेशन स्थापित किए जाएंगे.

चीन के पर्यावरणीय सुरक्षा के उप-मंत्री वू शियाकिंग ने कहा कि उनका देश शहरों की ऊर्जा के बुनियादी ढांचे में सुधार कर, वायु की गुणवत्ता सुधारने का प्रयास करेगा.

संबंधित समाचार