चीन में क्राइसलर की ड्रैगन थीम वाली जीप

इमेज कॉपीरइट Reuters

विश्व के सबसे बड़े कार बाज़ार चीन में होंडा मोटर्स 56 करोड़ डॉलर का और निवेश करेगा. जबकि सोमवार को बीजिंग मोटर शो में अमरीकी कंपनियों फोर्ड और क्राइसलर ने अपने नई मॉडल पेश किए हैं जो खास तौर पर चीनी बाजार के लिए ही बनाए गए हैं.

फोर्ड ने बीजिंग मोटर शो में अपना मिनी स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल दिखाया है जिसे चीन में ही बनाया जाएगा. जबकि क्राइसल ने ड्रैगन थीम वाली जीप पेश की है.

आर्थिक संकट के कारण अमरीका और यूरोप में विकसित देशों के बाजारों में कारों की माँग घटी है. इसी वजह से अंतरराष्ट्रीय कंपनियों का ध्यान चीन जैसे बाजारों पर है.

होंडा मोटर्स ने कहा है कि वो चीन में एक नई इंजन फैक्टरी खोलेगा ताकि बढ़ती माँग को पूरा किया जा सके.

चीन, भारत समेत कई एशियाई देशों में कार बाजार में अपनी जगह और मजबूत करने के लिए कंपनियों में होड़ लगी हुई है.

जापानी कंपनी होंडा ने कहा है कि वो चीन में नई एसेंबली लाइन भी स्थापित करेगी जिसकी शुरुआती क्षमता एक लाख 20 हजार यूनिट प्रति वर्ष होगी. इसमें 2014 तक काम शुरु हो जाएगा. इससे चीन में होंडा की उत्पादन क्षमता छह लाख कार प्रति साल हो जाएगी.

एशिया में क्राइसलर के चीफ ऑपरेटिंग अधिकारी माइक मैनले कहते हैं, “चीन में सफल होने के लिए हमें अपने वाहन चीनी ग्राहकों की रुचि के हिसाब से बनाने होंगे.”

चीन की अर्थव्यवस्था में आई तेजी के कारण पिछले कुछ वर्षों में लोगों का वेतन बढ़ा है जिस कराण कारों की माँग भी बढ़ी है.

संबंधित समाचार