चेन ग्वांगचेंग चीनी पासपोर्ट के इंतजार में

  • 10 मई 2012
चेन इमेज कॉपीरइट Getty

चीन के चर्चित सरकार विरोधी चेन ग्वांगचेंग का कहना है कि वो अपने पासपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं ताकि वो पढ़ाई के लिए चीन छोड़कर अमरीका जा सकें.

चेन ग्वांगचेंग ने कहा कि उन्हें न्यूयार्क विश्वविद्यालय से पढ़ाई करने का प्रस्ताव मिला है और अमरीका की सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं.

कुछ दिन पहले चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिऊ वायमिन के हवाले से कहा था , “अगर वो चीनी नागरिक के तौर पर विदेश में पढ़ना चाहते हैं तो वो ऐसा कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें बाकी दूसरी चीनी नागरिकों की तरह सामान्य माध्यमों से संबंधित विभागों की संबंधित प्रक्रियाओं को पूरा करना होगा.”

सरकार को चुनौती

चेन ग्वांगचेंग ने चीन की सरकार को भी ये चुनौती दी है कि वो सिद्ध करे कि उसने उन्हें नजरबंद नही रखा था.

चेन पिछले महीने अपने घर पर नजरबंदी से भाग निकले थे और छह दिन तक वो बीजिंग में अमरीकी दूतावास में रहे. लेकिन अब वह दूतावास को भी छोड़ चुके हैं.

चेन ग्वांगचेंग ने समाचार ऐजेंसी एपी को बताया कि चीन सरकार उन्हें नजरबंद रखे जाने की जाँच करे और अगर वो ऐसा नही करती तो यही समझा जाएगा कि ये सरकार का ही आदेश था.

चीन सरकार ने उन्हें नजरबंद रखे जाने का दोष स्थानिय अधिकारियों पर मढ़ दिया है. लेकिन चेन ग्वांगचेंग चाहते हैं कि दोषियों को दंड दिया जाए.

महत्वपूर्ण है कि चेन ग्वांगचेंग जबरन गर्भपात और नसबंदी के खिलाफ मुहिम चला चुके हैं.

साल 2010 से नजरबंद

चेन को यातायात में बाधा डालने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए चार साल जेल में गुजारने के बाद वर्ष 2010 से घर पर नजरबंद रखा जा रहा था.

पिछले महीने अपने घर से भागने के बाद उन्होंने अमरीकी दूतावास में छह दिन बिताए थे.

चीन के सुरक्षा के आश्वासन के बाद बुधवार को वो दूतावास को छोड़ कर चले गए थे. बाद में उन्होंने कहा कि अपने परिवार को मिल रही धमकियों के चलते उन्होंने देश को छोड़ने का फैसला किया था.

संबंधित समाचार