चीन में कानून लागू नहीं हो रहा है: चेन

  • 30 मई 2012
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption चेन ग्वांगचेंग ने कहा है कि चीन में कानून नहीं बल्कि इसे ठीक से लागू करने की जरूरत है

चीन के मानवाधिकार कार्यकर्ता चेन ग्वांगचेंग ने कहा है कि चीन में कानून की कमी नहीं है बल्कि उसे ठीक से लागू करने की कमी है. चेंग ने कहा है कि चीनी राजनीतिक नेतृत्व के लिए सबसे बड़ी चुनौती कानून को ही ठीक से लागू करने की है.

चेन ग्वांगचेंग ने ये बातें अमरीकी अखबार न्यूयार्क टाईम्स में लिखे अपने लेख में कहा है. इस लेख को मंगलवार की रात न्यूयार्क टाईम्स के वेवसाइट पर डाल दिया गया है.

चेन ग्वांगचेंग का कहना है कि उन्हें और उनके परिवार के सदस्यों को ‘गैरकानूनी’ ढंग से चार वर्षों तक उनके ही घर में कैद करके रखा गया था.

अपने लेख में चेन ग्वांगचेंग ने लिखा है, “चीन में कानून की कमी नहीं है, बल्कि इसे लागू करने की कमी है.”

अधिकारी भी जिम्मेदार

उन्होंने लिखा है कि जो अधिकारीगण उनके मामले को देख रहे थे उन्होंने बार-बार अपनी सुविधानुसार कानून की धज्जियां उड़ाईं.

ग्वांगचेंग ने अपने लेख में चीनी हुकूमत को सलाह दी है कि वह 'कानून की किताब' और 'लागू किए जाने वाले कानून' के बीच के बारिकियों को समझें.

आरोप है कि अप्रैल में चीन में अपने घर से गायब हो जाने के बाद उनके परिवार के सदस्यों के उपर चीनी सरकार ने जुल्म किए थे.

चेन ग्वांगचेंग के भतीजे चेन केगुई पर उन अधिकारियों की हत्या के प्रयास का आरोप लगाया है जो उनके घर में तब दाखिल हुए थे जब उनके चाचा नजरबंदी से फरार हो गए थे. इसके लिए उन्हें मौत की सजा दी जा सकती है.

वकील पर खतरा

चेन ग्वांगचेंग ने अखबार में लिखकर चीनी हुकूमत पर यह भी आरोप लगाया है कि जिस वकील ने उन्हें कानूनी मदद की है, उनके उपर आज भी जान का खतरा मंडरा रहा है.

उन्होंने सरकार को चेताया है कि उसे अपने वायदे पर कायम रहना चाहिए जिसमें उन्होंने कहा था कि उनके परिवार के खिलाफ चल रही जांच पड़ताल की निष्पक्ष जांच की जाएगी.

चेन ग्वांगचेंग ने लिखा है कि चीन के लिए यह ‘चुनौती भरा समय’ है क्योंकि साल के अंत में नेतृत्व परिवर्तन होना है, और ‘अराजकता की स्थिति’ नए नेतृत्व के लिए चुनौती बन सकता है.

ग्वांगचेंग ने आने वाले नेतृत्व को आगाह किया है कि उसे ‘इस अवसर का बुद्धिमता से लाभ उठाना’ चाहिए.

चेंन ने कहा है, "अगर कोई खुद सही नहीं कर सकता है तो वह किसी दूसरे से कैसे अपेक्षा कर सकता है कि वो सही करे."

संबंधित समाचार