यात्रा पर पाबंदी से निराश हैं आइ वेवे

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption आइ वेवे को पिछले वर्ष बिना किसी आरोप के तीन महीने तक हिरासत में रखा गया था

चीन के असंतुष्ट कलाकार आइ वेवे ने कहा है कि वे विदेश जाना चाहते हैं मगर चीनी अधिकारी उनकी ज़मानत की अवधि पूरी होने के बावजू उनकी आज़ादी में बाधा डाल रहे हैं.

उन्होंने बीबीसी को बताया कि उनसे कहा गया है कि वे चीन नहीं छोड़ सकते जो कि बेहद “निराशाजनक” है.

उन्होंने ये भी कहा कि हिरासत से बाहर आने के बाद से ही उनपर लगातार निगाह रखी जा रही है.

आइ वेवे को पिछले साल हिरासत में लिया गया था और कर चोरी के आरोप में उनपर जुर्माना लगाया गया जिसे कि वेवे राजनीति से प्रेरित कदम बताते हैं.

वेवे 24 लाख डॉलर के इस जुर्माने के आदेश को चुनौती दे रहे हैं मगर इस सप्ताह उन्हें अदालत की एक सुनवाई में हिस्सा लेने से रोक दिया गया.

उन्हें 22 जून 2011 को रिहा किया गया था और उनकी ज़मानत की अवधि एक साल बाद पूरी हो गई है मगर उनका कहना है कि अभी भी उनपर पाबंदियाँ लगाई जा रही हैं.

उन्होंने कहा,”मेरा अनुभव मिला-जुला है. उन्होंने मुझसे कहा कि मैं देश नहीं छोड़ सकता. मैंने पूछा कि कब तक, तो उनका जवाब था कि वे नहीं बता सकते. ये बहुत ही निराशाजनक है."

चीनी कलाकार ने कहा कि वे इस साल काम के लिए ब्रिटेन और अमरीका जाना चाहते हैं मगर उन्हें नहीं पता कि ये संभव हो सकेगा कि नहीं.

वेवे ने कहा,”मुझे यात्रा नहीं करने देने की बात मेरे लिए हैरानी की बात है, क्योंकि आप किसी को ये कहकर आज़ाद नहीं करते कि इसके साथ-साथ ये शर्तें जुड़ी हुई हैं."

पीछा

उन्होंने कहा कि पिछले साल से अब तक वे पाबंदियों के बीच रह रहे हैं जो उनके अनुसार कभी-कभी बहुत कड़ी होती हैं और इनमें विदेशी मीडिया से बात करना या ट्विटर पर लिखना जैसी चीज़ें शामिल हैं.

उन्होंने कहा,”निश्चित रूप से मैंने उनमें से कई पाबंदियों को तोड़ा है क्योंकि मेरे लिए कुछ सच बातों को नहीं कह सकना असंभव है.

"मेरा पीछा किया जाता है, पार्कों में भी, जहाँ कोई झाड़ी के पीछे छिपा होता है, कोई वीडियो रिकॉर्डिंग कर रहा होता है.

"पिछले कोई 300 दिनों से मैं देखता हूँ कि हर जगह दो या तीन गाड़ियाँ पीछा कर रही हैं. फिर वो फ़ोन टैप करते ही हैं, ई-मेल चेक करते हैं, वो निजता की अवहेलना करने के लिए जो हो सकता है करते हैं."

आइ वेवे का कहना है कि अब उनके ख़िलाफ़ कथित अपराध की जाँच हो रही है जिसमें कि इंटरनेट पर अश्लील सामग्रियों को प्रकाशित करने जैसे अपराध शामिल हैं.

समझा जाता है कि ये मामला उनकी उस तस्वीर से जुड़ा है जिसमें उन्हें चार नग्न महिलाओं के बीच घिरा दिखाया गया है.

चीन सरकार के कटु आलोचक को पिछले साल बिना किसी आरोप के लगभग तीन महीने तक हिरासत में रखा गया था.

रिहाई के बाद उनपर टैक्स चोरी का आरोप लगा और उनपर जुर्माना लाद दिया गया.

संबंधित समाचार