चीन: पर्यावरण प्रदूषण के खिलाफ फिर प्रदर्शन

प्रदर्शनकारी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption चीन में नागरिक अपने अधिकारों के बारे में खासे जागरूक हो रहे हैं

पूर्वी चीन में प्रदर्शनकारियों ने सरकारी कार्यालयों पर हमला किया है और कारों को पलट दिया है. ये लोग कारखाने से कचरा बाहर निकालने के लिए एक पाइपलाइन का विरोध कर कर रहे हैं जिनके बारे में उनका कहना है कि इससे भूमिगत पानी जहरीला हो जाएगा.

खबरें हैं कि शंघाई के नजदीक किडोंग शहर में हजारों लोग विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए हैं. प्रदर्शनकारियों को स्थानीय सरकारी कार्यालयों में दाखिल होते देखा गया जहां उन्होंने कम्प्यूटर तोड़े और दस्तावेजों को खिड़की से बाहर फेंक दिया.

किडोंग के अधिकारियों ने निर्माणाधीन पाइपलाइन का काम रोककर प्रदर्शनकारियों का गुस्सा कम करने की कोशिश की. ये पाइपलाइन एक जापानी पेपर मिल की है.

लोगों का बढ़ता आक्रोश

अधिकारियों का कहना है कि इस परियोजना को अब बंद ही कर दिया जाएगा. चीन में बीते तीन दशकों में तेजी से हुए ओद्यौगिक विकास के बाद पर्यावरण को होने वाले नुकसान के प्रति लोगों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है.

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने सरकारी कार्यालयों से मिली शराब की बोतलें और बड़े पैमाने पर सिगरेट के पैकेटों को अपने कब्जे में कर लिया जो उनके अनुसार चीन के अधिकारियों को रिश्वत के तौर पर मिलते हैं.

चीन की मुख्य माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट 'सीना वीबो' पर एक तस्वीर प्रकाशित की गई है जिसमें सरकारी इमारत के बाहर शराब की बोतलें और सिगरेट के पैकेट दिखाए गए हैं.

पेपर मिल बंद

प्रदर्शनकारियों के साथ झड़पों के बाद स्थानीय पुलिस ने अपने माइक्रो-ब्लॉग पर लिखा कि जापानी कंपनी ओजि पेपर की इस पेपर मिल को स्थाई रूप से बंद कर दिया जाएगा.

जिजी प्रेस न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक, ओजि पेपर कंपनी ने उसकी पाइपलाइन की वजह से प्रदूषण होने से इनकार किया है. ये पाइपलाइन 110 किलोमीटर लंबी है और कंपनी का कहना है कि इसकी वजह से प्लांट के कामकाज पर असर नहीं पड़ेगा.

कंपनी के एक जनसम्पर्क अधिकारी का कहना है, ''हम प्रदूषित पानी प्रवाहित नहीं करते हैं. हम पानी को शुद्ध करने के बाद ही छोड़ते हैं जो स्थानीय पर्यावरणीय मानकों के अनुरूप है.''

पहले भी हुए हैं विरोध

प्लांट से निकलने वाली पाइपलाइन लुसी तट पर समुद्र में जाकर मिलती है जो किडांग में मछली पकड़ने की प्रमुख जगहों में से एक है.

ग्लोबल टाइम्स अखबार के मुताबिक, ये पेपर मिल जब पूरी क्षमता के साथ काम करती है, तब एक दिन में 150,000 टन कचरा छोड़ती है.

चीन में नागरिक अपने अधिकारों के बारे में खासे जागरूक हो रहे हैं. इस महीने की शुरूआत में दालियान में एक रासायनिक कारखाने के विरुद्ध प्रदर्शनों के बाद सेचुआन प्रांत में तांबे का मिश्र धातु बनाने के एक निर्माणाधीन कारखाने के खिलाफ व्यापक प्रदर्शन हुए थे.

पर्यावरण और प्रदूषण के बारे में चिंतित हजारों निवासियों के शिफांग शहर की सड़कों पर उतरने के बाद प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हिंसक झड़पें हुई थीं.

इसके बाद चीन की सरकार ने तांबे का मिश्र धातु बनाने वाले कारखाने का निर्माण रोक दिया था.

संबंधित समाचार