बर्मा के 'वारलॉर्ड' ने हत्या का अपराध कबूला

अदालत का दृश्य
Image caption नेव खेम कानून के शिंकजे से लगभग एक दशक तक बचता रहा

बर्मा के एक ताकतवर संदिग्ध स्वयंभू सामंत और पांच अन्य लोगों ने अपने खिलाफ चल रहे मुकदमे के दौरान स्वीकार किया है कि उन्होंने मेकांग नदी में चीन के 13 नाविकों की हत्या की थी.

सरकारी मीडिया की खबरों में कहा गया है कि मेकांक नदी के थाइलैंड से लगने वाले किनारे पर इस साल अक्तूबर में चीन के दो मालवाहक जहाजों में चालक दल के 13 सदस्य मृत पाए गए थे.

नेव खेम नाम के इस व्यक्ति को थाईलैंड, लाओस और बर्मा के 'गोल्डन ट्राएंगल' क्षेत्र के सबसे ताकतवर लोगों में से एक माना जाता है.

कार्रवाई के लिए दबाव

इस क्षेत्र में कानून-व्यवस्था बिल्कुल नहीं है और ये मादक पदार्थों और अन्य चीजों की तस्करी के लिए जाना जाता है. नेव खेम कानून के शिंकजे से लगभग एक दशक तक बचते रहे.

लेकिन अप्रैल में आखिरकार उन्हें बर्मा से पकड़ लिया गया. अगले महीने ही उसे पांच अन्य लोगों के साथ चीन ले जाया गया था जहां उन पर हत्या, मादक पदार्थों की तस्करी और अपहरण जैसे मामलों में मुकदमा चल रहा है.

कुनमिंग की अदालत इन सभी को आने वाले दिनों में सजा सुनाएगी.

बैंकॉक स्थित बीबीसी संवाददाता जोनाथन हेड का कहना है कि चीन के दबाव की वजह से थाईलैंड, लाओस और बर्मा के अधिकारियों को नेव खेम के खिलाफ सक्रियता दिखानी पड़ी.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक इसके बाद भी इस मामले में बहुत सारी बातों से पर्दा उठना अभी बाकी है.

थाईलैंड के नौसैनिकों पर भी इस हत्याकांड में शामिल होने का आरोप है. उनके खिलाफ मुकदमे की सुनवाई अभी जारी है.

संबंधित समाचार