हर्ष ने पूरी की मेरी ख्वाहिश: अनिल कपूर

  • 24 सितंबर 2016
इमेज कॉपीरइट crispy bollywood

अनिल कपूर के दो दशक के फ़िल्मी करियर में गुलज़ार साहब के साथ काम करने की ख़्वाहिश अभी तक पूरी नहीं हुई है.

राकेश ओमप्रकाश मेहरा निर्देशित फ़िल्म 'मिर्ज़्या' के ट्रेलर लॉन्चिंग पर अनिल कपूर ने कहा, "इस मामले में मेरा बेटा हर्षवर्धन कपूर ज़्यादा लकी हैं, क्योंकि उसे पहली ही फ़िल्म में गुलज़ार साहब के साथ काम करने का मौक़ा मिला."

अनिल कपूर के मुताबिक़, "मैं 34 साल से गुलज़ार साहब से कह रहा था कि मेरे लिए लिखिए और मुझे अपनी फ़िल्मों में लीजिए, मेरे लिए फ़िल्म बनाइए, लेकिन मुझे गुलज़ार साहब ने मौक़ा ही नहीं दिया. उन्होंने मेरे लिए ना सही मेरे बेटे के लिए फ़िल्म बनाई. इसके लिए उनका शुक्रिया.!"

इमेज कॉपीरइट Crispy Bollywood

अनिल कपूर आगे कहते हैं कि, "गुलज़ार साहब के साथ वह अब भी काम करना चाहते हैं. देखते यह मौक़ा मुझे कब मिलता है?"

अपनी हाज़िर जवाबी के लिए मशहूर गुलज़ार ने यह बात अनिल कपूर के ही पाले में डाल दी कि, "मैं अपनी फ़िल्मों की कास्टिंग में अनिल को मिस कर जाता था, पता नहीं कैसे? एक बात यह भी थी कि उन दिनों मैं दूसरों के लिए काम करता था और फ़िल्मों का सिर्फ़ निर्देशक हुआ करता था."

गुलज़ार ने कहा, "अब तो अनिल मुझे काम में रख सकते है उनके लिए काम करूंगा."

17 वर्षों बाद गुलज़ार साहब ने इस फ़िल्म के लिए कलम थामी है. राकेश ओम प्रकाश मेहरा के मुताबिक़, "कॉलेज के दिनों में मैंने मिर्ज़ा-साहिबा नाटक देखा था. तबसे ही इस पर फ़िल्म बनाना चाहता था. इसे लेकर जब गुलज़ार साहब से मिला तो पूरी फ़िल्म का खाका तैयार हो गया."

इमेज कॉपीरइट crispy bollywood

बॉलीवुड में अपने डेब्यू को लेकर काफ़ी कॉन्फिडेंट दिख रहे हर्षवर्धन कपूर का कहना है कि, "इस फ़िल्म के सिलसिले में मैं पहली बार राकेश से 2008 में मिला था. उन दिनों राकेश और गुलज़ार साहब 'मिर्ज़या' की कहानी पर काम कर रहे थे. जून 2013 से मैं सही अर्थ में इस फ़िल्म से जुड़ा और इसके लिए मैंने काफ़ी मेहनत भी की है."

आगामी 7 अक्टूबर को रिलीज़ होने वाली फ़िल्म 'मिर्ज़या' में हर्षवर्धन के साथ तन्वी आज़मी की भतीजी सयामी खेर भी फिल्मी दुनिया में प्रवेश करेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए