करण जौहर के दफ़्तर पर मनसे का प्रदर्शन

  • 27 सितंबर 2016

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के आठ-दस कार्यकर्ता मंगलवार को फिल्म निर्माता-निर्देशक करण जौहर के दफ़्तर अपना विरोध पत्र देने पहुंचे.

पत्र में करण की आने वाली फ़िल्म 'ए दिल है मुश्किल' में काम कर रहे पाकिस्तानी कलाकार फ़वाद ख़ान का विरोध किया गया है. मनसे ने कहा है कि वो इस फिल्म को रिलीज़ नहीं होने देंगे.

मनसे कार्यकर्ताओं के इस क़दम को देखते हुए करण जौहर के दफ़्तर की सुरक्षा बढ़ा दी गई . वहीं पुलिस के अलावा निजी सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है.

करण की सुरक्षा में तैनात निजी सुरक्षाकर्मियों ने मनसे कार्यकर्ताओं को तबतक अंदर नहीं जाने दिया जबतक कि पुलिस नहीं आ गई.

पुलिस का कहना है कि उन्हें अभी इस बारे में कोई शिकायत नहीं मिली है. वर्सोवा पुलिस के ऑन ड्यूटी अधिकारी ने बताया कि मनसे कार्यकर्ताओं ने जौहर के कार्यालय से बाहर निकलने के बाद हंगामा किया और इन कार्यकर्ताओं को वर्सोवा पुलिस थाने लाया गया है

इमेज कॉपीरइट CRISPY BOLLYWOOD

उड़ी हमले के बाद राज ठाकरे के नेतृत्व वाली मनसे ने फ़वाद ख़ान और माहिरा ख़ान जैसे पाकिस्तानी कलाकारों को 48 घंटे के भीतर भारत से चले जाने की धमकी दी थी.

उन्होंने कहा था कि वो ऐसी फ़िल्मों को रिलीज़ नहीं होने देगी जिनमें पाकिस्तानी कलाकार काम कर रहे हैं.

जौहर की आने वाली फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' में फ़वाद ख़ान अभिनय कर रहे हैं. यह फ़िल्म दिवाली के समय रिलीज होगी.

फ़वाद के पीआर ने बताया कि वो फ़िल्म के प्रमोशन का हिस्सा नहीं रहेंगे. वो इस समय भारत में भी नहीं हैं और फ़िल्म की रिलीज़ के समय भी भारत में नहीं रहेंगे

इमेज कॉपीरइट CRISPY BOLLYWOOD

उड़ी हमले के बाद करण जौहर ने कहा था कि वो हमले में मारे गए लोगों के लिए दुखी हैं. वो इसके बाद देश में उमड़े आक्रोश को भी समझते हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ जौहर ने कहा था, "पाकिस्तानी कलाकारों पर पाबंदी लगाना आतंकवाद का समाधान नहीं है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)