'डैडी' से खुश है गैंगस्टर की बेटी

  • सुनीता पाण्डेय
  • मुंबई से, बीबीसी हिंदी के लिए

विवादों में रहे किसी शख्स पर बनी फ़िल्म आम तौर पर रिलीज़ से ही पहले विवादित हो जाती हैं. लेकिन साल 2017 में रिलीज होने जा रही फ़िल्म 'डैडी' इसका अपवाद है.

फ़िल्म 'डैडी' डॉन अरुण गवली पर बनी है. एक वक्त सहयोगी उन्हें 'डैडी' पुकारते थे.

हाल ही में इस फ़िल्म का टीज़र लॉन्च किया गया, जहां अरुण गवली के पूरे परिवार को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था.

बीबीसी से ख़ास बातचीत में अरुण गवली की बेटी गीता गवली ने टीज़र पर खुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, "इस फ़िल्म को देखकर 'डैडी' को लेकर लोगों के नजरिए में ज़रूर बदलाव आएगा."

अरुण गवली ने अंडरवर्ल्ड से राजनीति का रुख किया और विधायक भी चुने गए. वो साल 2004 से 2009 तक निर्वाचित विधायक रहे.

साल 2009 में गवली ने जेल में रहते हुए विधानसभा चुनाव लड़ा. उनकी पार्टी अखिल भारतीय सेना (एबीएस) के सभी अन्य 20 उम्मीदवारों को भी हार का सामना करना पड़ा.

कई बार हत्या, जबरन वसूली और अपहरण जैसे विभिन्न मामलों को लेकर गिरफ्तार हो चुके अरुण गवली हर बार छूटकर आ जाते थे.

लेकिन साल 2008 में शिवसेना पार्षद कमलाकर जमसांदेकर की हत्या मामले में अरुण गवली को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई और वो अभी भी नागपुर जेल में हैं.

इमेज कैप्शन,

अरुण गवली फाइल फोटो

निर्देशक असीम अहलूवालिया की इस फ़िल्म में अभिनेता अर्जुन रामपाल मुख्य भूमिका निभा रहे हैं.

अर्जुन को लेकर गीता गवली का कहना है, "उन्होंने इस रोल पर काफ़ी मेहनत की है. उनका लुक भी डैडी से काफ़ी मिलता जुलता है. इस रोल के लिए अर्जुन रामपाल सबसे सही चुनाव हैं. दोनों में काफ़ी समानता दिखाई दे रही है."

इस रोल को लेकर अर्जुन रामपाल ने अरुण गवली से जेल में मुलाक़ात की थी.

इस वज़ह से उन्हें मुंबई पुलिस ने समन भेजा था और अर्जुन को मुंबई पुलिस के सामने सफाई भी देनी पड़ी थी.

इस फ़िल्म में अरुण गवली से जुड़ी सच्ची घटनाओं को केवल पार्श्व में ही दिखाया गया है जबकि गवली के चरित्र को गढ़ने में निर्देशक ने अपनी कल्पना का पूरा सहारा लिया है.

गीता गवली के मुताबिक़, "निर्देशक ने डैडी को फ़िल्म में किस तरह दिखाया है, यह तो फ़िल्म देखने के बाद ही पता चलेगा. फ़िलहाल टीज़र देखकर कोई अनुमान नहीं लगाया जा सकता."

लेकिन गीता को उम्मीद है कि निर्देशक ने फ़िल्म में गवली के साथ पूरा न्याय किया होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)