फिल्म रिव्यू : इस हफ़्ते सिनेमा हॉल जाने की वजह क्या है ?

  • सुशांत मोहन
  • बीबीसी संवाददाता, मुंबई
वजह तुम हो फ़िल्म में गुरमीत चौधरी, सना ख़ान
इमेज कैप्शन,

वजह तुम हो फ़िल्म में गुरमीत चौधरी, सना ख़ान

इस हफ्ते बॉलीवुड की दो और हॉलीवुड की कुछ फ़िल्में रिलीज हो रही है.

'वजह तुम हो' और 'शोर से शुरुआत' का सामना हॉलीवुड की मेगा स्टारर फ़िल्में 'स्टार वॉर्स-रोग़ वन', 'कोलैट्रल ब्यूटी' और 'ला ला लैंड' से होने वाला है.

इन फ़िल्मों में क्या है ख़ास और इन्हें आप क्यों देखें. चलिए हम आपको फ़िल्म दर फ़िल्म बताते हैं.

वजह तुम हो (*1\2 स्टार)

यह फ़िल्म विशाल पंड्या के निर्देशन में बनी है. इससे पहले वे हेट स्टोरी 2 और हेट स्टोरी 3 बना चुके हैं. क्राइम थ्रिलर एक्सपर्ट के तौर पर काम करने वाले विशाल की इस फ़िल्म में भी कहानी का मूल एक क्राइम है. यहां एक टीवी चैनल को हैक किया जाता है और फिर एक क़त्ल का लाइव प्रसारण दिखाया जाता है. फिर इस क़त्ल और चैनल हैंकिंग की गुत्थी सुलझाने में दो वक़ील (जो प्रेमी भी हैं) और एक पुलिस इंस्पेक्टर लग जाते हैं. फ़िल्म में गुरमीत चौधरी, सना ख़ान और शरमन जोशी मुख़्य भूमिकाओं में हैं. फ़िल्म में कामुक दृश्यों की भरमार है. लेकिन फ़िल्म का निर्देशन और कलाकारों का अभिनय काफ़ी कमज़ोर है. फ़िल्म प्रभावित नहीं करती.

शोर से शुरुआत (*** स्टार)

यह फ़िल्म एक प्रयोग है. यह सात छोटी फ़िल्मों का संकलन है. इन्हें सात अलग अलग नए निर्देशकों ने बनाया है. इन सभी निर्देशकों के मेंटर के तौर पर फ़िल्म में श्याम बेनेगल, मीरा नायर, इम्तियाज़ अली और नागेश कुकुनूर जैसे निर्देशकों के नाम शामिल है. हमारी ज़िंदगी में आवाज़ की क्या अहमियत है, वे कितनी तरह की होती हैं, इनके क्या मायने हो सकते हैं, ये इन सात कहानियों में दिखाया गया है. ज़ोया अख़्तर के मार्गदर्शन में बनी फ़िल्म 'आमेर' या नागेश कुकुनूर के मार्गदर्शन में बनी फ़िल्म 'ध्वनि' दिल को छू जाती है. और अगर आप नए सिनेमा और उसके प्रयोगों के देखने के शौकीन हैं तो इस फ़िल्म को जरूर देखें.

रोग़ वन-स्टार वॉर्स (*** स्टार)

फ़िल्म स्टार वॉर्स के दुनिया भर में मौजूद फ़ैन्स को इस फ़िल्म का बेसब्री से इंतज़ार था. ये फ़िल्म खास है. 1977 में आई स्टार वॉर्स सिरीज़ की पहली फ़िल्म के घटनाक्रम की शुरुआत क्यों हुई, ये इस फ़िल्म से मालूम चलता है. दरअसल इस फ़िल्म के ज़रिए निर्देशक गैरेथ एडवर्ड्स ने स्टार वॉर्स फ़िल्मों को एक पूरे चक्र की शक्ल दे दी है. फ़िल्म में कमाल के ग्राफ़िक्स हैं और स्टार वॉर्स के फ़ैन्स इस फ़िल्म को देखने के बाद इसे स्टार वॉर्स सिरीज़ की सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म कह रहे हैं. लेकिन एक परेशानी है. अगर आपने इससे पहले कोई स्टार वॉर्स फ़िल्म नहीं देखी है तो यह फ़िल्म आपके सर के उपर से गुजर सकती है. तो ध्यान रखिए अगर आप फ़ैन हैं तो ये आपकी फ़िल्म है.

कोलैट्रल ब्यूटी (*स्टार)

स्टार कास्ट को देखकर अगर आप इस फ़िल्म को देखने जाने वाले हैं तो एक बार फिर सोच लीजिए. यह फ़िल्म विल स्मिथ, केट विंसलेट, कीरा नाइटली, एडवर्ड नॉरटॉन जैसे कलाकारों के अभिनय से सजी है. यह हॉलीवुड की उन फ़िल्मों में से एक है जिन्हें आप ख़राब कह सकते हैं. अपनी बेटी की मौत के बाद निराश हो चुके एक पिता को उसके बिज़नेस पार्टनर लूटने की कोशिश करते हैं. फिर पिता को जीवन का ज्ञान कैसे मिलता है यही इस फ़िल्म का आधार है. लेकिन समस्या यह है कि फ़िल्म में इस विषय को ठीक से दिखाया नहीं गया, अपनी दमदार एक्टिंग के लिए मशहूर विल यहां बुझे हुए हैं और संजीदा रोल करने वाली केट कुछ अजीब सी लगती हैं. निर्देशक फ़िल्म को बीच में छोड़ गए थे. ऐसे में कहानी का रुख बदल गया है यह फ़िल्म की शुरुआत और अंत में दिखाई देता है. अगर आप इस हफ़्ते एक अच्छा सिनेमा देखना चाहते हैं तो इस फ़िल्म को छोड़ सकते हैं.

ला ला लैंड (**** स्टार)

हॉलीवुड के सभी फ़िल्म समीक्षकों के अनुसार यह साल की सबसे अच्छी फ़िल्मों में से एक है. फ़िल्म एक संगीतकार और एक अभिनेत्री की अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश, टूटते ख़्वाबों को बयां करती है. संगीत से भरपूर ये फ़िल्म आपको भावुक कर देगी. कलाकार हमेशा सुपरहिट स्टार नहीं बनते. कैसे उन्हें अपने सपनों से समझौते करने पड़ते हैं और कैसे बिछड़े दिलों में प्यार हमेशा ज़िंदा रहता है, यही इसका आधार है. अगर आप रोमांटिक फ़िल्म देखने के शौकीन हैं और जैज़ संगीत प्रेमी हैं तो आपके लिए यह फ़िल्म एक शाही दावत हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)