'गेम ऑफ़ थ्रोन्स' लीक मामले में मुंबई से गिरफ़्तारी

  • 15 अगस्त 2017
इमेज कॉपीरइट HBO

मुंबई में पुलिस ने चार व्यक्तियों को धारावाहिक 'गेम ऑफ़ थ्रोन्स' के एक एपिसोड को प्रसारण से पहले लीक करने के संदेह में गिरफ़्तार किया है.

बताया जा रहा है कि ये चारों व्यक्ति उस कंपनी में काम करते थे जो टेलिविज़न पर दिखाए जाने वाले एपिसोड को मोबाइल ऐप के लिए तैयार करती है.

फिलहाल चारों व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया है उन पर कंपनी के नियमों का आपराधिक उल्लघंन और डेटा सुरक्षा से संबंधित आरोप लगाए गए हैं.

एचबीओ टेलीविज़न के धारावाहिक 'गेम ऑफ़ थ्रोन्स' का ये सातवां सीज़न है.

अगर साइबर हमलावर फ़िरौती मांगें तो ना दें

रैनसमवेयर सरकारों के लिए चेतावनी: माइक्रोसॉफ्ट

इमेज कॉपीरइट EPA

इससे पहले इस साल अगस्त में ब्रिटेन में दिखाए जाने से ठीक पहले धारावाहिक का चौथा एपिसोड ऑनलाइन लीक हो गया था.

इससे पहले धारावाहिक के एक अनदेखे एपिसोड की पूरी कहानी और एचबीओ के अन्य शो के वीडियो ऑनलाइन लीक कर दिए गए थे. हैकर्स के एक समूह ने कंपनी के नेटवर्क में सेंध लगा कर ये एपिसोड चुराए थे.

साइबर हमलेः फिरौती के बाद भी बचने की गारंटी नहीं

'फिरौती वायरस' हमले की निंदा तो कर दी पर...

इमेज कॉपीरइट Matt Alexander/PA Wire

बाद में हैकर्स ने एक नोट जारी कर कंपनी से फिरौती मांगी और कहा कि अगर कंपनी चाहती है कि और डेटा ऑनलाइन ना पोस्ट किया जाए तो उन्हें फिरौती दे दी जाए. हैकर्स ने कंपनी को इसके लिए तीन दिन का वक्त दिया था.

हैकर्स समूह ने पांचवे एपिसोड की कहानी, कंपनी के कागज़ात और एचबीओ के दूसरे शो के वीडियो भी ऑनलाइन पोस्ट कर दिए. हैकर्स समूह का दावा था कि उनके पास कुल 1.5 टेट्राबाइट डेटा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे