आत्मकथा लिखकर उसे सील करना चाहते हैं आमिर

  • 3 अक्तूबर 2017
सिक्रेट सुपरस्टार, दंगल, आमिर ख़ान, सत्यमेव जयते इमेज कॉपीरइट Spice PR

महिला सशक्तिकरण का संदेश देने वाली फ़िल्म 'दंगल' ने भारत और चीन में वाहवाही लूटी. अब आमिर ख़ान इसी विषय पर एक और फ़िल्म 'सीक्रेट सुपरस्टार' लेकर आ रहे हैं.

लगातार हिट फ़िल्म देने वाले आमिर ख़ान का मानना है कि सिर्फ़ सुपरस्टार फ़िल्म हिट नहीं करा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Spice PR

आमिर ख़ान ने बीबीसी के साथ बातचीत में कहा, "फ़िल्मों की सफलता और असफलता का श्रेय सिर्फ़ सुपरस्टार को नहीं दे सकते है. फ़िल्म 'पी के' हिट है पर मेरी वजह से नहीं बल्कि वो फ़िल्म अच्छी थी.''

''सुपरस्टार कभी भी फ़िल्म हिट नहीं कर सकते, बल्कि फ़िल्में अभिनेता को सुपरस्टार बनाती हैं. सुपरस्टार सिर्फ़ ओपनिंग ला सकता है, लेकिन जब तक फ़िल्म अच्छी नहीं होगी तब तक कोई फ़िल्म को हिट नहीं करवा सकता."

आमिर ख़ान का मानना है कि स्टारडम मिलने के पीछे कोई तर्क नहीं होता है. उन्हें पता नहीं कि उनके 30 साल के स्टारडम की क्या वजह है और वो ये कैसे कर पाए.

आमिर ख़ान की अम्मी ने उनको चेतावनी दी थी कि फ़िल्मों में सुपरस्टार का समय सिर्फ़ 7 से 8 साल का होता है. आमिर ख़ान की अम्मी चाहती थीं कि आमिर ऐसे व्यवसाय में जाए जिसमें जोखिम कम हो.

इमेज कॉपीरइट Spice PR

शाहरुख़ ख़ान और सलमान ख़ान के साथ काम करने की इच्छा रखने वाले आमिर ख़ान एक अच्छे स्क्रिप्ट की तलाश में है जिसमें वो दोनों ख़ान के साथ काम कर सके.

फ़िलहाल वो बहुत खुश है की सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ वो "ठग्स ऑफ़ हिंदुस्तान" फ़िल्म कर रहे है. वो कहते है कि, "अमित जी प्रतिभा का पिटारा हैं.. ये मेरे लिए बहुत बड़ा अनुभव है की मैं बच्चन साहब को इतने नज़दीक से काम करते हुए देख रहा हूँ. वो बहुत ही उदार और दयालु सह कलाकार है. मैं उनसे बहुत कुछ सीख रहा हूँ."

अपने शो सत्यमेव जयते से विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर प्रकाश डालने वाले आमिर ख़ान का कहना है कि, "हम अभिनेता इतने प्रशंसकों से मिलते हैं कि हम अपनी सुरक्षा के लिए अपने आसपास एक अनदेखी दीवार खड़ी कर लेते है और वास्तविकता से दूर हो जाते है. पर सत्यमेव जयते ने मुझे इतने तरह के लोगों से मिलाया जिससे मुझे रचनात्मक रूप से मदद हुई."

इमेज कॉपीरइट Spice PR

देश के विभिन सामाजिक मुद्दों से जुड़े आमिर ख़ान ने तय किया है की वो कभी भी राजनीति में क़दम नहीं रखेंगे क्योंकि जिस व्यवसाय में वो हैं उन्हें उससे लगाव है और समाज के लिए जो वो करना चाहते है उसके लिए राजनीति में जाने की ज़रूरत नहीं है.

आमिर अपने दिलचस्प जीवन को किताब में तब्दील करने की इच्छा रखते है पर उन्होंने एक शर्त भी रखी है. वो कहते है कि, "मैं अपने जीवन पर किताब लिखकर उसे सील कर दूंगा. अपने वकील से कहूंगा की जब मेरे मृत्यु हो जाए तब इसका प्रकाशन करे. जब उस किताब का प्रकाशन हो मैं उस दौरान मौजूद नहीं रहना चाहता."

आमिर ख़ान नहीं चाहते उन पर कोई बायोपिक बने क्योंकि उनकी कहानी दिलचस्प नहीं है और लोग उनके बारे में जानते हैं पर 50 या 100 साल के बाद उन पर बायोपिक बन सकती है. हालांकि वो शोमैन राज कपूर को बड़े परदे पर निभाने की चाहत रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट Spice PR

अपने 30 साल के करियर में आमिर ख़ान ने बहुत कुछ खोया है और बहुत कुछ पाया है. अपनी ज़िन्दगी की खोई हुई चीज़ों की गणना करते हुए आमिर कहते है कि, "काम के पीछे मैंने अपने परिवार को प्राथमिकता नहीं दी. दिनचर्या में मेरा काम मेरी प्राथमिकता है. ये बात तकलीफ़ देती है. मुझे लगता है की मैंने अपने बेटे और बेटी के साथ ज़्यादा वक़्त नहीं गुज़ारा पर मुझे इसका अफ़सोस नहीं है क्योंकि मेरा उनके साथ रिश्ता बहुत गहरा और अच्छा है. अगर रिश्ता खंडित होता तो वक़्त ना गुज़ारने का अफ़सोस होता."

उम्र के इस पड़ाव में अब आमिर ख़ान पांच साल के बेटे आज़ाद के साथ रोज़ाना अच्छा वक़्त गुज़ारते है.

इमेज कॉपीरइट Spice PR

अद्वैत चन्दन द्वारा निर्देशित "सीक्रेट सुपरस्टार" में आमिर ख़ान अतरंगी संगीतकार के रूप में नज़र आएंगे. दंगल से चर्चा में आई ज़ायरा वसीम इसमें अहम भूमिका निभा रही है. फ़िल्म 19 अक्टूबर को रिलीज़ होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए