नवाज़ुद्दीन ने मांगी माफ़ी, पूर्व प्रेमिका ने कहा झूठा

  • 31 अक्तूबर 2017
निहारिका सिंह और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption निहारिका सिंह और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

बॉलीवुड अभिनेता नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने सोमवार को अपनी जीवनी 'ऐन ऑर्डेनरी लाइफ' को लेकर माफ़ी मांगी है. इस किताब में जिन महिलाओं का ज़िक्र है उसे लेकर नवाज़ुद्दीन ने माफ़ी मांगी है.

नवाज़ुद्दीन ने अपने ट्वीट में कहा है कि वो भावनाओं को आहत करने के माफ़ी मांग रहे हैं.

नावज़ुद्दीन सिद्दीकी ने बिना सहमति के अपनी किताब में उन महिलाओं के नाम शामिल करने के लिए माफ़ी मांगी है. उनकी जीवनी को लेकर विवाद बढ़ा तो उन्होंने ट्विटर पर आकर माफ़ी मांगनी पड़ी.

नवाज़ुद्दीन की इस किताब की सह-लेखिका रितुपर्णा चटर्जी हैं. इस किताब में नवाज़ुद्दीन ने पूर्व मिस इंडिया निहारिका सिंह और अभिनेत्री सुनिता रजवार से रिलेशनशिप और प्रेम प्रसंगों का विस्तार से ज़िक्र किया है.

बेटे के 'कान्हा' बनने पर ख़ुश हैं नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

टाइगर श्रॉफ़ को नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी से लगता है डर!

फ़िल्म इंडस्ट्री से पहले, समाज की जड़ों में है रंगभेद: नवाज़ुद्दीन

इमेज कॉपीरइट Getty Images

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार प्रकाशक पेंग्विन रैंडम हाउस ने इस किताब को वापस लेने की पुष्टि की है.

अपने ख़ास अभिनय से पहचान बनाने वाले नवाज़ुद्दीन की इस किताब के लिए कड़ी आलोचना हो रही थी. नवाज़ुद्दीन ने अपनी जीवनी में मिस लवली में काम कर चुकीं निहारिका सिंह से प्रेम प्रसंगों का विस्तार से ज़िक्र किया था.

इमेज कॉपीरइट Twitter

किताब के उद्धरणों की चर्चा गर्म थी. इसे लेकर 23 अक्टूबर को निहारिका सिंह ने एक बयान जारी किया था. अपने बयान में उन्होंने कहा था कि नवाज़ुद्दीन ने अपनी किताब बेचने के लिए एक महिला का इस्तेमाल और अनादर किया है.

इसे लेकर सुनीता रजवार ने भी नवाज़ुद्दीन को आड़े हाथों लिया.

सुनीता ने फ़ेसबुक पोस्ट के ज़रिए कहा है कि नवाज़ुद्दीन झूठ फैला रहे हैं. सुनिता का कहना है कि उन्होंने नवाज़ुद्दीन को ओछी सोच के कारण छोड़ा था. रजवार ने लिखा है, ''मैंने तुम्हें छोटी औक़ात के कारण नहीं बल्कि छोटी सोच के कारण छोड़ा था.''

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK
Image caption नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी पूर्व प्रेमिका सुनीता रजवार

पढ़िए सुनीता रजवार ने अपनी फ़ेसबुक पोस्ट में क्या लिखा है-

कहते हैं नसीब वक्त बदल सकता है, इंसान की फ़ितरत नहीं. नवाज़ की किताब पढ़कर कुछ ऐसा ही लगा और यकायक 'मेलाराम वफ़ा' का एक शेर याद आ गया, "एक बार उसने मुझको देखा था मुस्कुराकर, इतनी सी हक़ीक़त है बाक़ी कहानियां हैं." इस बायोग्राफी में सच्चाई नहीं है. कई बातें नवाज़ ने अपने मन से, अपने हिसाब से और अपने हक़ में लिखी हैं. चित भी मेरी पट भी मेरी टाइप्स.

उन्होने बड़ी ही ख़ूबसूरती से खुद को बुरा भी कह दिया है और उतनी ही ख़ूबसूरती से अपनी बुराई का सारा ठीकरा औरतों पर भी फोड़ दिया है. ख़ासकर मुझपे, क्योंकि उनकी माने तो मेरे बाद उनका प्यार से और औरतों से विश्वास ही उठ गया था और उनके सारे इमोशन्स RIP यानी रेस्ट इन पीस हो गए थे.''

इमेज कॉपीरइट facebook
Image caption नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी पूर्व प्रेमिका सुनिता रजवार

बहरहाल, उनकी बायोग्राफी में जहां तक मेरा सवाल है तो उनके झूठ का फ़लसफ़ा वहीं से शुरू हो जाता है जहां से मेरा ज़िक्र, यानी शुरुआत की पहली दो लाइन से ही, जहां नवाज़ कह रहे हैं कि वो मुझे एनएसडी में कभी नही मिले.

एनएसडी में वो मेरे एक साल सीनियर थे तो ज़ाहिर है मुलाक़ात तो होती होगी. हां, उस वक़्त हमारे बीच कुछ था नहीं, लेकिन ये कहना कि कभी मिले ही नहीं, ये अटपटा सा ज़रूर लगता है.

इमेज कॉपीरइट facebook

फिर उन्होंने कहा कि मैं उनके घर की दीवारों में आर्ट-वर्क करती थी, नाम उकेरा करती थी, दिल बनाया करती थी, जिनके बीच से होकर कभी-कभी तीर भी गुज़रा करता था. ये पढ़ कर ऐसा लगा मानो मैं उनसे मिलने नही बल्कि उनकी आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स की क्लास लेने जाया करती थी.

हद तो तब हो गई जब उन्होंने रोमांटिक बॉलीवुड मूवी स्टाइल में लिख दिया कि हमारे ब्रेक-अप के बाद उन्होंने वाइट पेंट की बाल्टी ली और ब्रश से मेरे आर्ट-वर्क को दीवार से और मुझे दिल से मिटाते गए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब सवाल ये उठता है कि जब मैंने कभी कोई आर्ट-वर्क बनाया ही नही था तो वो किसके आर्ट वर्क को मिटाने की बात कर रहे हैं?

चलो इन छोटी-छोटी बातों को नज़र अंदाज़ भी किया जा सकता है, लेकिन असली खेल तो उन्होने वहां खेला जहां हमारे ब्रेक-अप की बात आई. नवाज़ हमेशा से सहानुभूति बटोरने वाले रहे हैं. वो कोई ऐसी चीज़ नही छोड़ते जहां से सहानुभूति बटोरी जा सकती हो.

कभी अपने रंग-रूप को लेकर, कभी ग़रीबी को लेकर, कभी ये कहकर की वो वॉचमैन की नौकरी कर चुके हैं, जब की सच तो ये है कि उस वक़्त उनका फैमली बैकग्राउंड मेरी फैमली से अच्छा था. एक कामयाब आदमी को इतना असुरक्षित देखकर कामयाबी से डर सा लगने लगता है.

ख़ैर, नवाज़ का कहना है कि वो ग़रीब थे और स्ट्रगलर थे, इसलिए मैंने उन्हें छोड़ दिया. तो नवाज़ मैं क्या थी? तुम से ग़रीब तो मैं थी, तुम तो कम से कम अपने घर में रह रहे थे. मैं तो दोस्त के घर में रह कर स्ट्रगल कर रही थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ये सिर्फ़ तुम अच्छी तरह जानते हो कि हमारा रिश्ता एक प्ले से शुरू होकर उस प्ले के मात्र तीन शो से पहले ख़त्म हो चुका था, क्योंकि तुम्हारी सच्चाई मेरे सामने आ चुकी थी.

मैंने तुम्हारा फोन लेना छोड़ दिया था, क्योंकि घिन आती थी तुम्हारे बारे में सोच कर, बात क्या करती तुमसे. मैंने ये कभी नही कहा कि तुम अपने करियर पे फोकस करो और मैं अपने.

अब जब तुम सब हदें पार कर ही चुके हो तो ये भी जान लो कि मैंने तुम्हें क्यों छोड़ा था. मैंने तुम्हें इसलिए छोड़ा था, क्योंकि तुम हमारे संबंध का मज़ाक बनाते हुए सब व्यक्तिगत बातें हमारे कॉमन फ्रेंड्स के साथ शेयर किया करते थे.

तब मुझे पता चला कि तुम औरत और प्यार के बारे में क्या सोच रखते हो.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दूसरा बड़ा झूठ जिसने मुझे ये पोस्ट लिखने के लिए मजबूर किया वो ये कि तुम्हारे सफल होने पर मैंने लोगों को ये बताना शुरू कर दिया कि कभी तुम्हारे और मेरे गहरे संबंध थे. ना मैंने तब किसी को कुछ बोला था और ना आज तक किसी को कुछ बताया.

फिर इतना बड़ा झूठ क्यों नवाज़, अगर बहुत सच्चे बनते हो तो उन लोंगो का नाम भी छाप देते अपनी बायोग्राफी में जिनके साथ मैं तुम्हारे हिसाब से तुम्हारे सफल होने के बाद हमारे संबंधों का बखान किया करती थी.

तुमने लिखा है कि मैं तुम्हारा पहला प्यार थी, सूखे में पहली बारिश की तरह, अगर ये पहला प्यार था तो भगवान करे किसी को ऐसा पहला प्यार ना मिले. आज नाम है तुम्हारा, अच्छा काम कर रहे हो, इसलिए तब तो नही कहा था पर अब ज़रूर कहूंगी कि अपने करियर पर फोकस करो.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और रिचा

मैंने तुम्हें तुम्हारी ग़रीबी की वजह से नही तुम्हारी ग़रीब सोच की वजह से छोड़ा था. तुमने अपनी बायोग्राफी से साबित कर दिया कि मैं जिस नवाज़ को जानती थी तुम आज उससे ज्यादा ग़रीब हो. ना तुम्हे तब औरतों की इज़्ज़त करनी आती थी और ना ही अब सीख पाए हो.

तुम्हारे हालात पर बस इतना ही कहूंगी, "जा, तू शिकायत के क़ाबिल होकर आ, अभी तो मेरी हर शिकायत से तेरा क़द बहुत छोटा है."

और हाँ, मैं पहाड़न नही, पहाड़ हूँ...

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे