भंसाली आर्टिस्ट हैं गुंडे नहीं, जो गुंडों से लड़ेंः अनुराग कश्यप

  • 28 दिसंबर 2017
मुक्काबाज इमेज कॉपीरइट Raindrop Media

हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री के बेबाक फ़िल्मकार माने जाने वाले अनुराग कश्यप अपनी आगामी फ़िल्म 'मुक्काबाज़' को लेकर काफी उत्साहित है.

अनुराग का कहना है कि उनकी ये फ़िल्म, निर्देशक राजकुमार हिरानी की फ़िल्मों की तरह है जिसमें सामाजिक-राजनीतिक कहानी को हास्य और प्रेम में पिरोकर देश के खिलाड़ियों की दशा बताने की कोशिश की गई है.

बीबीसी से बातचीत में अनुराग कश्यप ने कहा, "हमारे देश की मीडिया सोती है. हमारी मीडिया उन चीज़ों को भाव नहीं देती जिसे देना चाहिए.''

'हिंदू आतंकवाद अब मिथक नहीं रहा'

अनुराग कश्यप का बच्चन परिवार प्रेम क्यों?

इमेज कॉपीरइट Raindrop Media

'विजेंद्र नहीं जीतते तो कोई बॉक्सिंग को नहीं पूछता'

अनुराग कहते हैं, ''मुक्केबाज़ में भी वही दिखाया गया है. मीडिया बॉक्सिंग पर तब तक खामोश थी जब तक विजेंद्र सिंह जीते नहीं. बस क्रिकेट को तवज्जो मिलती है. मीडिया उसी को जगह देती है जो बिकता है."

भारतीय मीडिया से खफ़ा अनुराग कश्यप का मानना है की अब मीडिया ने सिनेमा की जगह ले ली है और सिर्फ़ लोगों का मनोरंजन करती है.

बीते दिनों सुर्ख़ियों में रही फ़िल्म "पद्मावती" से जुड़े विवाद पर फ़िल्म इंडस्ट्री के कई नामचीन लोगों ने चुप्पी साधे रखी जिससे फ़िल्म इंडस्ट्री की एकता पर सवाल उठे.

फ़िल्म इंडस्ट्री और फ़िल्मकारों का बचाव करते हुए अनुराग कहते है, "जब अख़बार वाले अपनी बात नहीं रख पा रहे हैं, बड़े-बड़े कारोबारियों को चुप करा दिया जा रहा है, पत्रकारों को डरा दिया जा रहा है तो फ़िल्म इंडस्ट्री से क्यों उम्मीद की जा रही है?"

कहाँ से आई थीं पद्मावती?

नज़रिया: पद्मावती सच या कल्पना?

इमेज कॉपीरइट Raindrop Media

'उत्तर कोरिया के फ़िल्मकारों के बारे में सोचता हूं'

अनुराग आगे कहते है, "मेरी समस्या होती है तो मैं लड़ता हूं. मैं उम्मीद नहीं करता कि संजय लीला भंसाली लड़ें. उन पर अलग दबाव होगा. भंसाली मेरे दोस्त हैं, मैं उनका प्रशंसक हूं. वो आर्टिस्ट हैं, सैनिक नहीं. वो गुंडे नहीं हैं जो गुंडों से लड़ेंगे."

मौजूदा सामाजिक राजनैतिक गतिविधियों के कारण पैदा होने वाली चुनौतियों पर अनुराग कहते हैं, "जब भी फ़िल्म बनाते समय किसी दिक्कत में फंस जाता हूं, तो सोचता हूं कि मैं उत्तर कोरिया या ईरान में नहीं हूं जहां फ़िल्म बनाने नहीं दी जाती. जहां फ़िल्मकारों को नज़रबंद कर दिया जाता है."

'...इसलिए हमारे इतिहास का हिस्सा है पद्मावती'

फ़िल्म पद्मावती के सेट पर भंसाली के साथ मारपीट

इमेज कॉपीरइट Raindrop Media

मुक्काबाज़ फ़िल्म में "गैंग्स ऑफ़ वासेपुर" से चर्चा में आए अभिनेता विनीत कुमार सिंह अहम भूमिका में नज़र आएंगे. फ़िल्म में जिमी शेरगिल, ज़ोया अफ़रोज़ और रवि किशन भी अहम किरदार निभा रहे है. फ़िल्म 12 जनवरी को रिलीज़ होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे