'आज फिर जीने की तमन्ना है, आज फिर मरने का इरादा है...'

  • 4 फरवरी 2018
पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Faisal Farooqui of Dragonfly

पाकिस्तान में फ़ैशन शो अमूमन खुली जगहों पर नहीं आयोजित किए जाते.

इसके लिए फ़ैशन स्टूडियोज़ होते हैं, ख़ास तौर पर बनाई गई चुनिंदा जगहें होती हैं. आप ऐसा कह सकते हैं कि इनके आयोजन बंद दरवाज़ों के भीतर ही होते हैं.

लेकिन अब पाकिस्तान में फ़ैशन की फ़िज़ा बदलती हुई दिख रही है. नई पीढ़ी के डिजाइनर सड़कों पर फ़ैशनेबल कपड़े लाने की कोशिश कर रहे हैं.

इन्हीं में से एक मोहसिन सईद भी हैं जिन्होंने हाल ही में लाहौर शहर के पुराने इलाके में सड़कों पर एक फ़ैशन सूट किया.

मेड इन पाकिस्तान

पाकिस्तानी मॉडल्स का 'दुल्हनियां' लुक

haarsinghar, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Faisal Farooqui of Dragonfly

ये सवाल कई लोगों के जेहन में आता है कि आम पाकिस्तानी फ़ैशन के बारे में क्या सोचते हैं.

मोहसिन का कहना है कि ज़्यादातर लोग कपड़े पहनने को ही फ़ैशन मानते हैं. लेकिन हकीकत में ये उससे कहीं ज़्यादा है.

उनके ख़्याल से फ़ैशन न केवल खुद को जताने का एक तरीका है बल्कि लोगों को भी एक दूसरे से जोड़ने वाली चीज़ है.

मुश्किल में पाक लेकिन फ़ैशन उद्योग जगमग

एक-साथ आए भारत और पाकिस्तान

haarsinghar, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Faisal Farooqui of Dragonfly

पब्लिक प्लेस पर फ़ैशन शो पाकिस्तान के लिहाज से एक नई बात जान पड़ती है.

मोहसिन सईद सार्वजनिक जगहों पर फ़ैशन शूट करने के दिलचस्प पहलुओं की ओर ध्यान दिलाते हैं.

उनका कहना है कि इसकी शुरुआत 19वीं सदी में हुई जब फ़ैशन पब्लिक प्लेस और सड़कों पर उतरा.

वे कहते हैं कि इसके जरिए आप अपने पर्यावरण, शहर की इमारतों, अपनी संस्कृति और जीवनशैली जैसी चीज़ों के बारे में दुनिया को बता सकते हैं.

haarsinghar, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Faisal Farooqui of Dragonfly

क्या पाकिस्तान में पब्लिक प्लेस पर फ़ैशन शूट पहली बार हो रहा है?

इस सवाल के जवाब में मोहसिन बताते हैं कि ऐसा नहीं है. अतीत में फ़ैशन शो और शूट सार्वजनिक जगहों पर हुआ करते थे लेकिन ये पुरानी बात है, अब हालात बदल गए हैं.

वे कहते हैं, "उस समय लोगों का रवैया बहुत सकारात्मक था और लोग सहयोग करते थे. लेकिन समय के साथ देश में मजहब के नाम पर चरमपंथ बढ़ने लगा."

"इस वजह से लोगों ने सार्वजनिक जगहों पर होने वाले फैशन शूट में दखल देना शुरू कर दिया."

"छह साल पहले कराची में एक फैशन शूट के दौरान एक शख़्स गुस्सा होकर मेरे पास आया बोला, इसे रोको."

मोहसिन सईद को इस बर्ताव पर हैरत हुई लेकिन फिर भी उन्हें लगा कि आउटडोर फैशन शो जारी रहेंगे.

पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Faisal Farooqui of Dragonfly

लाहौर शहर के जिस पुराने इलाके में इस फ़ैशन शूट का आयोजन किया गया, वहां पुरानी इमारतें हैं, इतिहास के क़िस्से हैं और एक अलग सी बात है.

मोहसिन सईद को लगता है कि पाकिस्तान में पब्लिक प्लेस पर महिलाओं की मौजूदगी उनकी आबादी के लिहाज से बहुत कम है.

शायद उनका ख़्याल हकीकत से भी मेल खाता है. उन्हें उम्मीद है कि ऐसे फ़ैशन शूट महिलाओं को पब्लिक प्लेस पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराने के लिए प्रोत्साहित करेंगे.

Sirendypitea, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Jaffer Hasan

मोहसिन सईद बताते हैं कि लाहौर में इस फ़ैशन शूट के दौरान बड़ी तादाद में लोग देखने के लिए इकट्ठा हुए. वे तस्वीरें खींच रहे थे, वीडियो बना रहे थे लेकिन कोई भी पास नहीं आया और न ही किसी ने शूटिंग में दखल देने की कोशिश की.

उनका कहना है कि इस फैशन शूट का मक़सद लोगों की आदत बनाना भी है ताकि कोई औरत तैयार होकर ऐसी जगहों पर आ सके. इस प्रकार की सकारात्मक कोशिशें नियमित रूप से होती रहनी चाहिए. धीरे-धीरे लोगों को इसकी आदत पड़ जाती है, और वे इससे परेशान होने के बजाय इसे आम सी बात समझने लगते हैं.

वे कहते हैं, "मैं अकेले ये बदलाव नहीं ला सकता. दूसरे लोग भी बंद दरवाज़ों से बाहर आएं और पब्लिक प्लेस पर फ़ैशन शो और शूट आयोजित करें. इससे न केवल महिलाओं में सुरक्षा की भावना पैदा होगी बल्कि ये दुनिया के लिए बदलाव का संदेश होगा."

Sirendypitea, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Jaffer Hasan

पाकिस्तानी फ़ैशन डिजाइनरों के मुताबिक भले ही मुल्क में मजहब के नाम पर कट्टरपंथ बढ़ रहा हो लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो फ़ैशन पसंद करते हैं.

हां, वे इसे खुलकर जता नहीं पाते.

Chandni Begum, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Chandni Begum
Muhammad Haseeb Siddiqui, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Muhammad Haseeb Siddiqui

मोहसिन सईद ने कहा कि इस फ़ैशन शो का संदेश बॉलीवुड का मशहूर गीत, 'आज फिर जीने की तमन्ना है, आज फिर मरने का इरादा है...' से समझा जा सकता है.

वे कहते हैं, 'जब तक हम खुद कुछ नहीं करते और दूसरों को प्रोत्साहित नहीं करते हैं, कोई बदलाव नहीं होगा, न ही लोगों को इसकी आदत पड़ेगी और औरतें खुले आसमान के नीचे पब्लिक प्लेस पर अपनी मौजूदगी दर्ज करा सकेंगी.'

Haroon Sheikh of Inverted Rainbow, पाकिस्तान फ़ैशन उद्योग इमेज कॉपीरइट Haroon Sheikh of Inverted Rainbow

-

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक औरट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए