मैंगलौर पब हमले में श्रीराम सेना के प्रमोद मुतालिक बरी

  • 14 मार्च 2018
प्रमोद मुतालिक इमेज कॉपीरइट Getty Images

मैंगलौर पब अटैक मामले में दक्षिणपंथी संगठन श्रीराम सेना के नेता प्रमोद मुतालिक को कोर्ट ने बरी कर दिया है, जिससे मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और लोगों को चौंका दिया है.

जनवरी 2009 को हुई इस घटना के वीडियो फुटेज न्यूज़ चैनलों पर कई बार दिखाए जा चुके हैं, इस फुटेज में महिलाओं को उनके बालों से खींचकर पब के बाहर फेंक दिया गया था.

लेकिन इन वीडियो फुटेज को कोर्ट में सबूत के रूप में नहीं रखा गया.

इस मुकदमे का पूरा फैसला अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है लेकिन मजिस्ट्रेट ने फैसले के मुताबिक प्रमोद मुतालिक समेत 26 लोग बरी कर दिए गए हैं.

अभियुक्त पक्ष की वकील आशा नायक ने बरी किए जाने के मुमकिन कारणों को लेकर बीबीसी हिंदी से बात की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मुतालिक कैसे हुए बरी?

आशा नायक ने बताया,"कोर्ट में 12 गवाहों को पेश किया गया था. उनमें से 8 तो अधिकारी ही थे. अन्य 4 स्वतंत्र गवाह थे जिनमें शिकायतकर्ता भी शामिल हैं जिन्होंने अभियोजन पक्ष के बनाए केस का समर्थन नहीं किया. ये ज़रूर एक वजह हो सकती है."

आशा नायक के मुताबिक पब के मालिक ने कोर्ट से कहा कि वो अपनी शिकायत का समर्थन नहीं करते और ये शिकायत पुलिस ने लिखी है. उन्होंने किसी अभियुक्त की पहचान भी नहीं की.

एक शिकायत ये थी कि इस हमले के दौरान महिलाओं को साथ छेड़छाड़ की गई. वकील आशा नायक ने कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 354 यहां लागू नहीं हो सकती थी क्योंकि वे महिलाएं जांच एजेंसी के सामने कभी आईं ही नहीं.

लेकिन वीडियो में साफ़ नज़र आता है कि महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार हुआ, इस सवाल पर आशा कहती हैं कि उन्हें सबूत पेश करना चाहिए था.

"क्या हम उनसे भीख मांगे और कहें कि जांच एजेंसी के सामने आओ."

Image caption महिलाओं के एक छोटे से ग्रुप ने प्रमोद मुतालिक के ख़िलाफ़ 'पिंक चड्ढी' कैंपेन शुरू किया था

'दस साल में भी नहीं हुआ न्याय'

इस घटना के बाद महिलाओं के एक छोटे से ग्रुप ने 'पिंक चड्ढी' कैंपेन शुरू किया था जिसे काफ़ी समर्थन मिला था. ये कैंपेन इसलिए शुरू किया गया था क्योंकि प्रमोद मुतालिक और उनके संगठन ने धमकी दी थी कि जो लड़का-लड़की वैलेंटाइन डे पर साथ नज़र आएंगें उनकी शादी करवा दी जाएगी.

लेकिन इस कैंपेन को चलाने वाले लोगों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कर्नाटक में भाजपा के एक पूर्व मंत्री ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि उस वक्त पार्टी ने मुताल्लिक और श्री राम सेने संगठन को हिंदुत्व आंदोलन से परे कर दिया क्योंकि तब की भाजपा सरकार को उनकी वजह से शर्मिंदगी उठानी पड़ रही थी.

मैंगलौर के सिटीज़न फोरम फॉर मैंगलोर डेवलपमेंट का कहना है, "ये देख कर दुख होता है कि इतने सारे वीडियो और तस्वीरों के सबूत होने और तकरीबन 10 साल के ट्रायल के बाद भी अभियोजन पक्ष अपराधियों को सज़ा नहीं दिलवा सका."

फोरम की विद्या दिनकर कहती हैं कि वो कानूनी सलाह ले रही हैं ताकि बरी किए जाने के फैसले के खिलाफ़ हाई कोर्ट में जाएं. ये फैसला चौंकाने वाला है."

कर्नाटक के गृहमंत्री रामालिंगा रेड्डी ने भी कहा कि अभियोजन पक्ष को अपील करने को कहा जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे