वुसत का ब्लॉगः जोधपुरवासियों को मारे गए चिंकारा का ख़त

  • 9 अप्रैल 2018
सलमान ख़ान इमेज कॉपीरइट SUJIT JAISWAL/AFP/Getty Images

मेरे प्यारे जोधपुरियों,

आप सबको मेरा चारों पैरों और सींगों से दंडवत प्रणाम.

आप सबने मुझे और मेरे छोटे भाई पिंगू चिंकारे को हत्या के बाद जो आदर दिया और मेरी नस्ल को बचाने और उसके बढ़ावे के लिए जो जोश दिखाया, उसके बाद मुझे धरती छोड़ने का कोई दुख नहीं.

बल्कि इस दौरान यहां कई गायें, बैल और बेमौत मारे गए लोगों के आ जाने से स्वर्ग में हम सब भारतवासियों की एक बहुत बड़ी कॉलोनी भी बस गई है.

खाने-पीने, चरने-चराने और यहां से वहां तक भागने के लिए खुले मैदानों की कोई कमी नहीं. जानवर और इंसान सभी एक दूसरे का अच्छे से ख़्याल रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

सलमान के फ़ैन

मैंने और पिंगू ने यहां आने के कुछ ही समय बाद पाकिस्तान से आने वाली दो सुशील चंकारनों से ब्याह कर लिया.

उनका ताल्लुक ज़िला थरपारकर से है, वो किसी अरब शेख़ की गोली का निशाना बनके यहां पहुंची थीं.

आप सबकी कृपा से अब हमारे चिंकारा परिवार में 41 छोटे-बड़े लोग हैं. पिछले ही हफ्ते मैं दादा भी बन गया.

यहां पर तीन दिन पुराना अख़बार भी आता है.

अख़बार से पता चला कि मेरी और पिंगू की हत्या के जुर्म में जोधपुर की किसी अदालत ने सलमान ख़ान को पांच वर्ष क़ैद की सज़ा दे दी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सलमान को माफ़ी

मुझे और पिंगू को ख़ुशी भी हुई और दुख भी, ख़ुशी इस बात की कि आप लोगों ने एक अन्याय को न्याय में बदलने में चिंकारा बिरादरी का पूरा-पूरा साथ दिया और दुख इस बात का कि मैं और पिंगू उस सुपरस्टार की गोली का निशाना बने जिसके हम भी फैन थे और हैं और जब हमें उसके वहां आने की ख़बर मिली थी तो हम भी देखने के लिए वहां ख़ुशी-ख़ुशी पहुंचे थे.

यहां स्वर्ग में मेरे बच्चे और नवासे-नवासियां सलमान ख़ान को ज़्यादा नहीं जानते लेकिन टाइगर श्रॉफ़ को ख़ूब जानते हैं.

बल्कि मेरे एक भतीजे ने तो टाइगर की नकल करते हुए परसों ही अपनी पिछली टांग भी तुड़वा ली.

जोधपुरवासियों ये ख़त मैं आपको इसलिए लिख रहा हूं कि मैंने और पिंगू ने कल फ़ैसला किया कि सलमान ख़ान को अब माफ़ कर दिया जाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चिंकारा बिरादरी

लेकिन एक शर्त है कि वे राजस्थान में चिंकारा बिरादरी के बढ़ावे और उनकी देख-रेख में तन-मन-धन के साथ हाथ बँटाएं और शहर से आने वालों को ये जागरूकता संदेश भी देते रहें कि चिंकारे दुश्मन नहीं बल्कि पर्यायवरण के दोस्त हैं.

और राजस्थान के वासियों अगर आप सच में हमारे दोस्त हो तो जितनी मोहब्बत आप हमसे करते हो, उतनी ही मोहब्बत अपने जैसे इंसानों को भी दो.

हम चिंकारे भेदभाव नहीं जानते. हमारे यहां कोई भी शंभूलाल नहीं. आप क्यों हम जैसे नहीं बन सकते. ये बात चिंकारा बन के सोचना तुरंत समझ में आ जाएगी.

अब चलता हूं, मेरे दौड़ने का समय हो गया है. ख़ुश रहो मेरे जोधपुरियों राजस्थानियों...

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार