इस पीढ़ी के सबसे बेहतरीन अभिनेता हैं राजकुमार राव: हंसल मेहता

हंसल मेहता इमेज कॉपीरइट Universal PR
Image caption हंसल मेहता की फ़िल्म ओमर्टा आतंकवादी अहमद उमर सईद शेख़

फ़िल्मकार हंसल मेहता का कहना है कि दुनिया भर में हो रहे आतंकवाद के ज़िम्मेदार वो देश है जो आतंकवादियों को पनाह देते हैं.

बीबीसी से ख़ास मुलाक़ात में हंसल मेहता ने कहा कि वे अपनी फ़िल्म 'ओमर्टा' के ज़रिए लोगों का ध्यान आतंकवाद पर खींचना चाहते हैं. 'ओमर्टा' कुख्यात आतंकवादी अहमद उमर सईद शेख़ पर बनी है.

वे कहते हैं, "इस फ़िल्म के ज़रिए मैं उस बारे में बात करना चाहता हूँ जिस बारे में लोग बात नहीं करते. उमर शेख़ जैसे शख़्स खुलेआम कुछ भी करते हैं. ऐसा दरिंदा अभी तक ज़िंदा है, जबकि शाहिद आज़मी जो इस राह में चला ज़रूर पर अंत में उसने इंसानियत का रास्ता चुना, उसकी मौत हो गई."

हंसल आगे कहते हैं, "पाकिस्तान जैसे देश उन्हें पनाह देते हैं. उन्हें बढ़ावा देते हैं. उनका समर्थन करते हैं. 9/11, डेनियल पर्ल हत्या और कई ऐसी घटनाएं है, जिनसे दुनिया बदल गई. उन सब घटनाओं के केंद्र में ये शख़्स था और इन घटनाओं का अहम हिस्सा था. ये समझना ज़रूरी है कि ये कौन था? और ऐसे कौन लोग थे, जिन्होंने हिस्सा लिया."

आगे वे कहते हैं, "मैं मानता हूं जो देश ऐसे लोगों को पनाह देते हैं, उन्हें मज़बूत करते हैं, ऐसी घटनाओं के पीछे उनका हाथ है."

इमेज कॉपीरइट Studio talk PR

राजकुमार राव निभा रहे हैं क़िरदार

हंसल मेहता ने साफ़ किया कि उन्होंने इस फ़िल्म में आतंकवाद का गुणगान नहीं किया है.

जिहाद और क़ुरान पर टिप्पणी करते हुए हंसल मेहता का कहना है कि 'जिहाद' का मतलब हिंसा मान लिया गया है.

"कुरान में जिहाद को लेकर स्पष्टता नहीं है इसलिए सब अलग-अलग मतलब निकालते हैं. जबकि जिहाद ख़ुद से जंग है, दुनिया से नहीं."

हंसल मेहता धर्म के नाम पर हिंसा करना ग़लत मानते हैं. वे कहते हैं "हिंसा को सही साबित करने के लिए लोग इस्लाम धर्म को ज़रिया बना लेते हैं, मैं इसके ख़िलाफ़ हूं."

रुपहले पर्दे पर राजकुमार राव अहमद उमर सईद शेख़ का क़िरदार निभा रहे हैं.

राजकुमार राव को 'इस पीढ़ी का सबसे बेहतरीन अभिनेता' मानने वाले हंसल मेहता को ख़ुशी है और वो इसे अपना सौभाग्य मानते हैं कि "ये फ़िल्म ऐसे समय आई है जब राजकुमार के अपने दर्शक बन गए हैं."

इमेज कॉपीरइट Universal PR

हंसल के मुताबिक़ फ़िल्म सिर्फ़ जागरूकता ला सकती है पर मानसिकता में बदलाव लोगों को ख़ुद ही लाना पड़ेगा.

हंसल मेहता की पिछली फ़िल्म कंगना रनौत के साथ 'सिमरन' थी, जिसे दर्शकों ने पसंद नहीं किया. हंसल मेहता का कहना है कि 'फ़िल्म महंगी थी इसलिए नहीं चल पाई.'

'ओमर्टा' को कई अंतरष्ट्रीय फ़िल्म फ़ेस्टिवल में वाह-वाही मिल चुकी है. भारत में 'ओमर्टा' 4 मई को रिलीज़ होगी.

ये भी पढ़ें:

राजकुमार राव को 'जिहाद' क्यों लगता है पवित्र?

कौन है वो चरमपंथी जिसे पर्दे पर लेकर आ रहे हैं राजकुमार राव?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)