पाकिस्तानी कलाकारों वाला विवाद हमेशा राजनीतिक: सलीम मर्चेंट

  • 4 मई 2018
सलीम मर्चेंट, सुलेमान मर्चेंट इमेज कॉपीरइट SALIM MERCHANT
Image caption सलीम और सुलेमान मर्चेंट

संगीतकार सलीम मर्चेंट का कहना है कि पाकिस्तानी कलाकारों के साथ परफॉर्म करने का विवाद हमेशा से ही पॉलिटिकल रहा है.

'चक दे', 'फैशन', 'काल', 'कुर्बान', 'रब ने बना दी जोड़ी', 'भूतनाथ' और 'इकबाल' जैसी फ़िल्मों में संगीत दे चुके सलीम का कहना है कि संगीत की कोई सीमा नहीं होती. इस पर हुए हुए विवादों को याद करते हुए सलीम कहते हैं, "कन्ट्रोवर्सी हमेशा पॉलिटिकल होती है. जब मैं ये देखता हूँ कि सरहद पर हमारे जवान मारे जाते हैं तो मेरा दिल बहुत दुखता है."

सलीम कहते हैं, "कश्मीर हो या पंजाब, जब भी यहां हमले होते हैं तो ऐसा लगता है कि ये हमला मेरे घर या मेरे दिल में हुआ है और रही बात पाकिस्तानी आर्टिस्ट के साथ परफॉर्म करने की, तो पाकिस्तान के आर्टिस्ट भी इसी बात से नाराज़ हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच जो दरार पड़ी है वो अब ज़्यादा गहरी हो गई है. हम सब यही चाहते हैं कि एक दिन सुलह हो और हम उनके साथ मिलकर परफॉर्म करें या म्यूजिक कोलैबोरेशन करें. वो दिन नज़दीक है या दूर यह तो पता नहीं लेकिन वो दिन जल्द आए इसकी दुआ हम ज़रूर करेंगे."

सलीम मर्चेंट वरुण धवन और आलिया भट्ट पर फ़िल्माए गाने, 'तम्मा तम्मा' और हाल ही में आए जैकलीन फर्नांडिस के 'एक-दो-तीन' के रिमिक्स से बेहद नाराज़ और दुखी हैं.

इमेज कॉपीरइट SALIM MERCHANT

सलीम मर्चेंट कहते हैं, "मुझे बहुत दुख होता है जब देखता हूँ कि कई ऐसे गाने हैं जो रीमिक्स हो रहे हैं और मुझे ऐसा नहीं लगता कि हमारी बॉलीवुड इंडस्ट्री में प्रतिभा की कमी है, हम नए और ओरिजनल गाने बना सकते हैं."

सलीम कहते हैं, "इंडस्ट्री में टैलेंट तो बहुत है, लेकिन अगर म्यूजिक इंडस्ट्री, निर्माता, निर्देशक, कंपोजर और म्यूजिशियन को उनके अपने ढंग से काम करने दें तो गाना सुनने वालों को बहुत अच्छे गाने सुनने को मिलेंगे."

'जिस सीन में हम हंसते थे उन पर लोग तालियां बजाते थे'

इमेज कॉपीरइट COLORS PR

गानों का संस्कृति से जुड़ाव जरूरी

सलीम मानते हैं कि आजकल तो बस जल्दी से जल्दी एक हिट गाना बनाने की नीयत होती है. लोग ये नहीं समझते कि ऐसे गानें जितनी जल्दी ऊपर आते हैं उतनी ही जल्दी वापस नीचे भी उतर जाते हैं.

सलीम कहते हैं, "अगर किसी को तड़कता-भड़कता गाना बनाना भी है तो उसमें मैलोडी और रिदम के साथ ही वो हमारी संस्कृति से जुड़ा हुआ होना चाहिए. मैंने एक गाना बनाया था "मैं तो ऐंवई ऐंवई लुट गया", ये एक फोक गीत था, कुछ भी अश्लील नहीं था आज भी हर पंजाबी शादियों में बजता है. मैंने अक्सर कोशिश की है कि मैं जो भी गाने बनाऊं वो फ़िल्म से जुड़े हों."

इमेज कॉपीरइट COLORS PR

"बडुम्बा" पर बात नहीं करना चाहते सलीम

अमिताभ बच्चन और ऋषि कपूर की फ़िल्म 102 नॉट आउट में तीन गानों का म्यूजिक सलीम और सुलेमान ने दिया है. फ़िल्म का "बडुम्बा" गाना खुद अमिताभ बच्चन ने गाया और कंपोज़ किया है.

इसके बारे में सलीम कहते हैं, "उन्हें नहीं पता था कि ऐसा कोई गाना बना भी है. ये गाना फ़िल्म से हटकर है और हमने निर्णय लिया था कि ऐसा कोई प्रमोशनल सॉन्ग नहीं करेंगे फिर भी ये गाना बना."

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए सलीम दबे स्वर में नाराज़गी जाहिर करते हुए कहते हैं, "उस गाने के बारे में कोई बात ही नहीं करना चाहते, वह गाना फिल्म में है ही नहीं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए