फिर किताब लिखूंगा और इस बार सब झूठ लिखूंगा: नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

  • 12 सितंबर 2018
नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी इमेज कॉपीरइट Getty Images

अभिनेता नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने पिछले साल अपनी बायोग्राफ़ी 'एन ऑर्डिनरी लाइफ़' पेश की थी लेकिन कई विवादों के बाद उन्हें अपनी ये किताब वापस लेनी पड़ी.

अपनी आत्मकथा वापस लेने पर अफ़सोस जाहिर करते हुए नवाज़ ने कहा, "मैं फिर से किताब लिखूंगा और इस बार सब झूठ लिखूंगा, सब लोग खूब पढ़ेंगे क्योंकि मैं 'फ़ेमस' हूँ, तो लोग पढ़ेंगे और वाह-वाह करेंगे क्योंकि फ़ेमस लोगों की किताब सब पढ़ते हैं."

नवाज़ुद्दीन अपनी आने वाली फ़िल्म मंटो को लेकर चर्चा में हैं.

बीबीसी से खास बातचीत में नवाज़ुद्दीन ने कहा कि अपनी किताब वापस लेने के फ़ैसले से वो काफ़ी दुख़ी और फ़िक्र में थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption निहारिका सिंह और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

नहीं की थी अपनी तारीफ

नवाज़ुद्दीन ने कहा, "मेरी ये क़िताब 209 पन्नों की थी और सिर्फ 4-5 पन्ने ही मेरे रिलेशनशिप के बारे में हैं. मैंने अपनी किताब में नाम लिया हैं और ये मैंने गलती की, मुझे नहीं लेना चाहिए था. मैंने इस बात को स्वीकार किया और नाम वापस ले लिया. इसके अलावा 204 पन्ने बचते हैं जिसमें मैंने बताया कि कैसे मैं छोटे गांव से आया, कैसे मैंने ट्रेनिंग ली, कैसे मेरे सोचने का नज़रिया बदला. मैं जिस तरह का भी एक्टर हूँ अच्छा या बुरा वो सब लिखा था उसमें. मैंने उसमें अपनी कोई महिमा नहीं लिखी थी."

नवाज़ कहते हैं, "गंदे लफ्ज़ों में मैंने अपने बारे में बताया था. ये किताब अंग्रेज़ी में ज़रूर थी लेकिन उसमें लिखी हुई बातें बहुत साफ़ और सच लिखी थीं कि देखो किस तरह का इंसान था मैं. मेरे अंदर कितने ग़लत विचार थे क्योंकि मैं एक ऐसी जगह से आया हूँ जहां यही सोच थी. मेरी इन सब बातों पर ध्यान न देकर सिर्फ उन चार-पांच पन्नों को देख कर सनसनी बना दिया गया. ऐसे में मेरे दिमाग में तो यही आएगा ना कि ठीक है,मैं अपनी किताब वापस ले लेता हूं क्योंकि मैं 'फ़ेमस' और लोकप्रिय हो गया हूँ."

इमेज कॉपीरइट THACKERAY THE FILM

रजनीकांत पर फ़िदा नवाज़

फ़िल्म मंटो और ठाकरे के अलावा नवाज़ इन दिनों अपनी फ़िल्म 'न्यू लव इन रोम' और सुपरस्टार रजनीकांत के साथ एक अन्य फ़िल्म में व्यस्त हैं.

रजनीकांत के लिए उनके प्रशंसकों का प्यार देखते हुए नवाज़ कहते हैं, "रजनी सर दुनिया के सबसे बड़े सुपरस्टार हैं. इस बात में कोई शक़ नहीं कि उनके फैंस में उनके लिए जो जज़्बा है वो किसी और के लिए नहीं मिलेगा. जब आप उनसे मिलते हैं तो वो आपको एहसास नहीं होने देंगे कि वो इतने बड़े स्टार हैं बल्कि वो ऐसा दिखाएंगे जैसे कि वो भी आपकी तरह सिर्फ़ एक एक्टर हैं."

"लेकिन मैंने ऐसे लोगों को भी देखा है जो आप पर थोप-थोप कर ये बताने की कोशिश करते हैं कि देख मैं सुपरस्टार हूँ. रजनी सर और बाकी स्टार में ये बहुत बड़ा फर्क है. उत्तर प्रदेश के किसी भी गांव में चले जाओ, सबको पता है कि रजनीकांत कौन है लेकिन अगर आप साउथ के किसी गांव में जाओ तो पता चलेगा कि वो हमारे सुपरस्टार को लोग नहीं जानते."

इमेज कॉपीरइट SACRED GAMES @FB

अपने दमदार अभिनय से पहचान बना चुके नवाज़ को नेशनल अवार्ड की कोई चाहत नहीं है.

नवाज़ कहते हैं, 'मैं नेशनल अवार्ड की वजह से फ़िल्म नहीं करता हूँ और मुझे मालूम है कि मुझे नेशनल अवार्ड नहीं मिलेगा. ये मैं अच्छी तरह से जानता हूँ और इसलिए मुझे अवार्ड की कोई उम्मीद नहीं है.'

अभिनेत्री-फिल्मकार नंदिता दास के निर्देशन में बनी 'मंटो' 21 सितंबर को रिलीज़ हो रही है. इस फिल्म में नवाज़ुद्दीन सिद्दकी के साथ ऋष‍ि कपूर, जावेद अख्‍़तर, रसिका दुग्गल, ताहिर राज भसीन और दिव्या दत्ता मुख्य भूमिकाओं में नज़र आएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे